कोई मेरे साथ चले - सर्वेश्वरदयाल सक्सेना

कोई मेरे साथ चले, हिन्दी कविता, सर्वेश्वरदयाल सक्सेना

कोई मेरे साथ चले

मैंने कब कहा
कोई मेरे साथ चले
चाहा जरुर!

अक्सर दरख्तों के लिये
जूते सिलवा लाया
और उनके पास खड़ा रहा
वे अपनी हरियाली
अपने फूल फूल पर इतराते
अपनी चिड़ियों में उलझे रहे

मैं आगे बढ़ गया
अपने पैरों को
उनकी तरह
जड़ों में नहीं बदल पाया

यह जानते हुए भी
कि आगे बढ़ना
निरंतर कुछ खोते जाना
और अकेले होते जाना है
मैं यहाँ तक आ गया हूँ
जहाँ दरख्तों की लंबी छायाएं
मुझे घेरे हुए हैं......

किसी साथ के
या डूबते सूरज के कारण
मुझे नहीं मालूम
मुझे
और आगे जाना है
कोई मेरे साथ चले
मैंने कब कहा
चाहा जरुर!

                                     – सर्वेश्वरदयाल सक्सेना

Maine kab kaha
Koi mere saath chale
Chaaha jarur!

Aksar darkhton ke liye
joote silwa laaya
Aur unke paas khada raha
Ve apni hariyaali
Apne ful ful par itraate
Apni chidiyon mein uljhe rahe

Main aage badh gaya
Apne pairon ko
Unki tarah
Jadon mein nahin badal paaya

Yah jaante hue bhi
Ki aage badhna
Nirantar kuch khote jaana
Aur akele hote jaana hai
Main yahan tak aa gaya hun
Jahaan darakhton ki lambi chhaayein
Mujhe ghere hua hain......

Kisi saath ke
Yaa dubte suraj ke kaaran
Mujhe nahin maalum
Mujhe
Aur aage jaana hai
Koi mere saath chale
Maine kab kaha
Chaaha jarur!

                                     – Sarveshvar Dayal Saxena