कितना अच्छा होता है । सर्वेश्वरदयाल सक्सेना

'Kitna Achha Hota' a famous and beautiful poem, which is one of the famous works of Sarveshvardayal Saxena

कितना अच्छा होता है 

एक-दूसरे को बिना जाने 
पास-पास होना 
और उस संगीत को सुनना 
जो धमनियों में बजता है, 
उन रंगों में नहा जाना 
जो बहुत गहरे चढ़ते-उतरते हैं। 

शब्दों की खोज शुरू होते ही 
हम एक-दूसरे को खोने लगते हैं 
और उनके पक़ड़ में आते ही 
एक-दूसरे के हाथों से 
मछली की तरह फिसल जाते हैं। 

हर जानकारी में बहुत गहरे 
ऊब का पतला धागा छिपा होता है, 
कुछ भी ठीक से जान लेना 
खुद से दुश्मनी ठान लेना है। 

कितना अच्छा होता है 
एक-दूसरे के पास बैठ खुद को टटोलना, 
और अपने ही भीतर 
दूसरे को पा लेना।

                                                – सर्वेश्वरदयाल सक्सेना

Kitna accha hota hai
Ek-doosre ko bina jaane
Paas-paas hona
Aur us sangeet ko sunana
Jo dhamaniyon mein bajta hai,
Un rangon mein naha jaana
Jo bahut gahre chadhte-utarte hain.

Shabdon ki khoj shuroo hote hi
Ham ek-doosare ko khone lagte hain
Aur unke pakad mein aate hi
Ek-doosre ke haathon se
Machhali ki tarah fisal jaate hain.

Har janakaari mein bahut gahare
Oob ka patla dhaaga chhipa hota hai,
Kuch bhi theek se jaan lena
Khud se dushmani thaan lena hai.

Kitana achchha hota hai
Ek-doosare ke paas baith khud ko tatolna,
Aur apane hee bheetar
Doosare ko pa lena.

                                       –  Sarveshvaradayaal Saxena