Kaun Ho Tum | Sangita Yaduvanshi


This poem is based on love, Performed and written by Sangita Yaduvanshi. On stage the social house Poetry.



Kaun Ho Tum

कुछ पूछना है तुमसे 
कौन हो तुम? जो मेरे ख्वाबों में आते हो 
हर रोज कच्ची नींद में आशना बनाता हूं तुम्हें  
वो सुबह का ख्वाब हो क्या? 

जब लोग पूछते हैं हाल-ए-दिल मेरा 
तो उस खामोशी का तुम जवाब हो क्या 
जब मुड़ के देखती हो मुझे 
तो एक पल में पूरी जिंदगी जी लेता हूं मैं 
वही आखरी ख़्याल हो क्या?
उस दिन टकरा गई थी तुम धड़कनों से मेरी 
अब भी सांसो में मौजूद है वो खुशबू तेरी 
और पूछती है तुम से कोई गुलाब हो क्या?
अपने आंखों में न जाने कितने किस्से सजाए बैठी हो 
मशहूर हो जमाने में शायरी की तरह पूछता हूं तुमसे 
कोई ग़ालिब की किताब हो क्या?
न जाने कितने सरफरोश हुए 
ये रांझे, ये मजनू तुम्हारे इश्क में 
ये जो आंखों में जो छुपा है, 
वो उनकी बर्बादी का राज है क्या?
जानता हूं बह जाऊंगा एक दिन मोहब्बत के समंदर में कहीं 
क्या तुम वहीं सैलाब हो क्या? 
क्या तुम वहीं सैलाब हो क्या? 
पूछता हूं तुमसे मेरा सुबह का ख्वाब हो क्या?

                                             – संगीता यदुवंशी

Kuch puchhna hain tumse 
Kaun ho tum? jo mere khwabon mein aate ho 
Har roz kachchi nind mein aashna banata hun tumhein  
Wo subah ka khwab ho kya? 

Jab log puchhte hain haal-e-dil mera
Toh uss khaamoshi ka tum jawab ho kya? 
Jab mud ke dekhti ho mujhe 
To ek pal mein puri zindagi jee leta hun main 
Wahi aakhri khyaal ho kya?   

Uss din takra gayi thi tum dhadkanon se meri 
Ab bhi saanso mein maujood hain wo khushbu teri 
Aur puchhti hain tum se koi gulaab ho kya?   

Apne aankhon mein na jaane kitne kisse sajayein baithi ho 
Mashhoor ho zamane mein shayari ki tarah puchhtaa hun tumse 
Koi gaalib ki kitab ho kya?   

Na jaane kitne sarfarosh hue ye raanjhe ye majnu tumhare ishq mein
Ye jo aankhon mein jo chhupa hai, 
wo unki barbaadi ka raj hai kya?  

Janta hun bah jaaunga ek din mohabbat ke samandar mein kahin
Kya tum wahin sailab ho kya? 
Kya tum vahin sailab ho kya? 
Puchhta hun tumse mera subah ka khwaab ho kya? 

                                      – Sangita Yaduvanshi

Kaun Ho  tum written and perfomanced by Sangita yaduvansi on stage of the social house poetry

Poetry Video:-