This beautiful Ghazal is 'Kathin Hai Raahgujar Thodi Door Saath Chalo' written by Ahmed Faraz. This Ghazal of Ahmed Faraz is sung with Pankaj Udas very beautifully

Kathin Hai Raahgujar Thodi....

कठिन है राहगुज़र थोड़ी दूर साथ चलो 
बहुत कड़ा है सफ़र थोड़ी दूर साथ चलो

तमाम उम्र कहाँ कोई साथ देता है 
मैं जानता हूँ मगर थोड़ी दूर साथ चलो 

नशे में चूर हूँ मैं भी तुम्हें भी होश नहीं 
बड़ा मज़ा हो अगर थोड़ी दूर साथ चलो 

ये एक शब की मुलाक़ात भी ग़नीमत है 
किसे है कल की ख़बर थोड़ी दूर साथ चलो 

अभी तो जाग रहे हैं चिराग़ राहों के
अभी है दूर सहर थोड़ी दूर साथ चलो 

तवाफ़-ए-मन्ज़िल-ए-जानाँ हमें भी करना है 
"फ़राज़" तुम भी अगर थोड़ी दूर साथ चलो

                                         – अहमद फ़राज़ 

Kathin hai raahgujar thodi door saath chalo  
Bahut kada hai safar thodi door saath chalo 

Tamaam umar kahaan koi saath deta hai  
Main jaanta hun magar thodi door saath chalo
  
Nashe mein choor hun main bhi tumhein bhi hosh nahin  
Bada maja ho agar thodi door saath chalo
  
Ye ek shab ki mulaaqat bhi gnimat hai  
Kise hai kal ki khabar thodi door saath chalo
  
Abhi to jaag rahe hain chiraag raahon ke 
Abhi hai door sahar thodi door saath chalo

Tavaaf-e-manzil-e-janaan hamein bhi karna hai  
"Faraz" tum bhi agar thodi door saath chalo                                        

                                        – Ahmad Faraz