Kabhi Akele Me Mil Kar Jhanjhor Doonga Use | Rahat Indori


'Kabhi Akele Me Mil Kar Jhanjhor Doonga Use' written and performed by Rahat Indori. This poetry is best Ghazal and Shayari of Rahat Indori.

Kabhi Akele Me Mil Kar Jhanjhor Doonga Use

कभी अकेले में  मिल कर झंझोड़ दूंगा उसे
जहाँ जहाँ से वो टूटा है जोड़ दूंगा उसे

मुझे छोड़ गया ये कमाल है उस का
इरादा मैंने किया था के छोड़ दूंगा उसे

पसीने बांटता फिरता है हर तरफ सूरज
कभी जो हाथ लगा तो  निचोड़ दूंगा उसे

मज़ा चखा के ही माना हूँ  मैं भी दुनिया को
समझ रही थी  के ऐसे ही छोड़ दूंगा उसे

बचा के रखता है खुद को वो मुझ से शीशाबदन
उसे ये डर है  के तोड़फोड़ दूंगा उसे

                                                     – राहत इन्दौरी

Kabhi akele me mil kar jhanjhor doonga use
Jahan jahan se wo toota hai jod doonga use

Mujhe chhod gaya ye kamaal hai us ka
Iraada maine kiya tha ki chhod doonga use

Paseene baantta phirta hai har taraf sooraj
Kabhi jo haath laga to nichhod doonga use

Maza chakha ke hi maana hoon main bhi dunya ko
Samajh rahi thi ke aise hi chhod doonga use

Bacha ke rakhta hai khud ko wo mujh se shseesha badan
Use ye dar hai ke tor phor doonga use

                                             – Rahat Indori