Kaali Raaton Ko Bhi Rangeen Kaha Hai Maine | Rahat Indori

'Kaali Raaton Ko Bhi Rangeen Kaha Hai Maine' written and performed by Rahat Indori. This poetry is best Ghazal and Shayari of Rahat Indori.


शब्द अर्थ
तनकीद  आलोचना, पहचान।
पापोश  जूता।
दस्तार पगड़ी।
मस्लेहत  हितकर परामर्श, उचितसलाह, हित, भलाई, नीति।
शिजरे पटवारियों के पास रहने वाला खेतों का नक्शा,  वंशावली,  वंशवृक्ष।
ऐजाज़ चमत्कार, करिश्मा।


Kaali Raaton Ko Bhi Rangeen....

काली रातों को भी रंगीन कहा है मैंने
तेरी हर बात पे आमीन कहा है मैंने

तेरी दस्तार पे तन्कीद की हिम्मत तो नहीं
अपनी पापोश को कालीन कहा है मैंने

मस्लेहत कहिये इसे या के सियासत कहिये
चील-कौओं को भी शाहीन कहा है मैंने

ज़ायके बारहा आँखों में मज़ा देते हैं
बाज़ चेहरों को भी नमकीन कहा है मैंने

तूने फ़न की नहीं शिजरे की हिमायत की है
तेरे ऐजाज़ को तौहीन कहा है मैंने

                                                  – राहत इन्दौरी

Kaali raaton ko bhi rangeen kaha hai maine
Teri har baat pe aameen kaha hai maine

Teri dastaar pe tankid ki himmat to nahin
Apni paposh ko kaaleen kaha hai maine

Maslehat kahiye ise ya ke siyaast kahiye
Cheel-Kauvon ko bhi shaheen kaha hai maine

Jaayke baarha aankhon me maza dete hain
Baaz cheharon ko bhi namkin kaha hai maine

Tune fan ki nahi shizre ki himaayat ki hai
Tere aezaaz ko tauheen kaha hai maine

                                               – Rahat Indori