Jo De Rahe Hain Phal Tumhe Pake Pakaaye Hue | Rahat Indori

Jo De Rahe Hain Phal Tumhe Pake Pakaaye Hue written and performed by Rahat Indori. This poetry is best Shayari and Ghazal of Rahat Indori.

Jo De Rahe Hain Phal Tumhe...

जो दे रहे हैं फल तुम्हे पके पकाए हुए
वोह पेड़ मिले हैं तुम्हे लगे लगाये हुए

ज़मीर इनके बड़े दागदार है
ये फिर रहे है जो चेहरे धुले धुलाए हुए

जमीन ओढ़ के सोये हैं दुनिया में
न जाने कितने सिकंदर थके थकाए हुए

यह क्या जरूरी है की गज़ले ख़ुद लिखी जाए
खरीद लायेंगे कपड़े सिले सिलाये हुए

हमारे मुल्क में खादी की बरकते हैं मियां
चुने चुनाए हुए हैं सारे छटे छटाये हुए...

                                                   – राहत इंदौरी

Jo de rahe hain phal tumhe pake pakaaye hue
Woh ped mile hain tumhe lage lagaaye hue

Zameer inke bade daagdaar hai
Ye phir rahe hai jo chehare dhule dhulaaye hue

Zameen odh ke soye hain duniya mein
Na jaane kitne Sikandar thake thakaaye hue

Yah kya jaroori hai ki ghazalein khud likhi jaaye
Khareed laayenge kapde sile-silaaye hue

Hamaare mulk mein khaadi ki barkate hai miyaan
Chune-chunaaye hue hai saare chhate-chhataaye hue

                                               – Rahat Indori