Ishq Me Jeet Ke Aane Ke Liye Kaafi Hoon | Rahat Indori



Ishq Me Jeet Ke Aane Ke Liye Kaafi Hoon written and performed by Rahat Indori. This poetry is best Ghazal and Shayari of Rahat Indori.

Ishq Me Jeet Ke Aane Ke Liye Kaafi Hoon

इश्क़ में जीत के आने के लिये काफी हूँ
मैं अकेला ही ज़माने के लिये काफी हूँ

हर हकीकत को मेरी ख्वाब समझने वाले
मैं तेरी नींद उड़ाने के लिये काफी हूँ

ये अलग बात के अब सुख चुका हूँ फिर भी
धूप की प्यास बुझाने के लिये काफी हूँ

बस किसी तरह मेरी नींद का ये जाल कटे
जाग जाऊँ तो जगाने के लिये काफी हूँ

जाने किस भूल भुलैय्या में हूँ खुद भी लेकिन
मैं तुझे राह पे लाने के लिये काफी हूँ

डर यही है के मुझे नींद ना आ जाये कहीं
मैं तेरे ख्वाब सजाने के लिये काफी हूँ

ज़िंदगी…. ढूंढ़ती फिरती है सहारा किसका ?
मैं तेरा बोझ उठाने के लिये काफी हूँ

मेरे दामन में हैं सौ चाक मगर ए दुनिया
मैं तेरे एब छुपाने के लिये काफी हूँ

एक अखबार हूँ औकात ही क्या मेरी मगर
शहर में आग लगाने के लिये काफी हूँ

मेरे बच्चो…. मुझे दिल खोल के तुम खर्च करो
मैं अकेला ही कमाने के लिये काफी हूँ

                                                – राहत इन्दौरी

Ishq me jeet ke aane ke liye kaafi hoon
Main Akela hi zamaane ke liye kaafi hoon

Har hakikat ko meri khwaab samajhne waale
Main teri neend udaane ke liye kaafi hoon

Ye alag baat ke ab sookh chukaa hoon phir bhi
Dhoop ki pyaas bujhaane ke liye kaafi hoon

Bas kisi tarah meri neend ka ye jaal kate
Jaag jaaun to jagaane ke liye kaafi hoon

Jaane kis bhool bhulayiya main hoon khud bhi lekin
Main tujhe raah pe laane ke liye kaafi hoon

Dar yahi hai ke mujhe neend naa aa jaaye kahin
Main tere khwaab sajaane ke liye kaafi hoon

Zindagi…. dhundti phirti hai sahara kiska ?
Main tera bojh utthane ke liye kaafi hoon

Mere daaman main hain so chaak, magar ae duniya
Main tere aib chhupane ke liye kaafi hoon

Ek akhbaar hoon aukaat hi kya meri magar
Shahar main aag lagaane ke liye kaafi hoon

Mere bachcho mujhe dil khol kar tum kharch karo
Main akela hi kamaane ke liye kaafi hoon

                                              – Rahat Indori