Ise Saman-e-safar Jaan Ye Jugnu Rakh Le | Rahat Indori


Ise Saman-e-safar Jaan Ye Jugnu Rakh Le written and performed by Rahat Indori. This poetry is best Shayari and Ghazal of Dr. Rahat Indori.

Ise Saman-e-safar Jaan Ye...

इसे सामान-ए-सफर जान ये जुगनू रख ले
राह में तीरगी होगी मेरे आँसू रख ले

तु जो चाहे तो तेरा झूट भी बिक सकता है
शर्त इतनी है कि सोने की तराजू रख ले

वो कोई जिस्म नहीं है की उसे छू भी सकें
हाँ अगर नाम ही रखना है तो खुश्बू रख ले

तुझ को अन-देखी बुलंदी में सफर करना है
एहतियातन मेरी हिम्मत मेरे बाजू रख ले

मेरी ख्वाहिश है की आँगन में न दीवार उठे
मेरे भाई मेरे हिस्से की जमीं तू रख ले

                                                      – राहत इंदौरी

Ise saman-e-safar jaan ye jugnu rakh le
Raah mein teergee hogi mere aansoo rakh le

Tu jo chahe to tera jhoot bhi bik sakta hai
Shart itni hai ki sone ki taraajoo rakh le

Wo koi jism nahin hai ki use chhu bhi sakein
Haan agar naam hi rakhna hai to khusboo rakh le

Tujh ko an-dekhi bulandi mein safar karna hai
ehtiyaatan meri himmat mere baajoo rakh le

Meri khwahish hai ki aangan mein na deewar uthe
Mere bhai mere hisse ki jameen tu rakh le

                                               – Rahat Indori