Harek Chehare Ko Zakhmon Ka Aaina Na Kaho | Rahat Indori

Harek Chehare Ko Kakhmon Ka Aaina Na Kaho' written and performed by Rahat Indori. This poetry is best Ghazal and Shayari of Rahat Indori.


शब्द अर्थ
नेज़ों भाला।


Harek Chehare Ko Zakhmon Ka... 

हरेक चहरे को ज़ख़्मों का आइना न कहो
ये ज़िंदगी तो है रहमत इसे सज़ा न कहो

न जाने कौन सी मजबूरियों का क़ैदी हो
वो साथ छोड़ गया है तो बेवफ़ा न कहो

तमाम शहर ने नेज़ों पे क्यों उछाला मुझे
ये इत्तेफ़ाक़ था तुम इसको हादसा न कहो

ये और बात के दुश्मन हुआ है आज मगर
वो मेरा दोस्त था कल तक उसे बुरा न कहो

हमारे ऐब हमें ऊँगलियों पे गिनवाओ
हमारी पीठ के पीछे हमें बुरा न कहो

मैं वाक़यात की ज़ंजीर का नहीं कायल
मुझे भी अपने गुनाहो का सिलसिला न कहो

ये शहर वो है जहाँ राक्षस भी हैं “राहत”
हर इक तराशे हुए बुत को देवता न कहो

                                                  – राहत इन्दौरी

Harek chehare ko zakhmon ka aaina na kaho
Ye zindagi toh hain rahmat ise saza na kaho

Na jaane kaun si majbooriyon ka kaidi ho
Wo saath chhod gaya hai toh bewafa na kaho

Tamaam shehar ne nezon pe kyo uchhaala mujhe
Ye ittefaak tha tum isko haadasa na kaho

Ye aur baat ke dushman hua hai aaj magar
Wo mera dost tha kal tak use bura na kaho

Humare aib humen ungaliyon pe ginwaao
Humari peeth ke peechhe hume bura na kaho

Main waakyaat ki zanzeer ka nahi kaayal
Mujhe bhi apne gunaaho ka silsila na kaho

Ye shehar wo hai jahan raakshas bhi hai “Rahat”
Har ik taraashe hue but ko devta na kaho

                                            – Rahat Indori