Dilon Me Aag Labon Par Gulab Rakhte Hai | Rahat Indori

Dilon Me Aag Labon Par Gulab Rakhte Hai' written and performed by Rahat Indori. This poetry is best Ghazal and Shayari of Rahat Indori.

शब्द अर्थ
बुतखाना मंदिर।
मैकदा शराबखाना।
हर्फ़-आश्ना शब्द से परिचित।
आफ़ताब सुर्य।

Dilon Me Aag Labon Par...

दिलों में आग लबों पर गुलाब रखते हैं
सब अपने चेहरों पे दोहरी नका़ब रखते हैं

हमें चराग समझ कर बुझा न पाओगे
हम अपने घर में कई आफ़ताब रखते हैं

बहुत से लोग कि जो हर्फ़-आश्ना भी नहीं
इसी में खुश हैं कि तेरी किताब रखते हैं

ये मैकदा है, वो मस्जिद है, वो है बुत-खाना
कहीं भी जाओ फ़रिश्ते हिसाब रखते हैं

हमारे शहर के मंजर न देख पायेंगे
यहाँ के लोग तो आँखों में ख्वाब रखते हैं

                                                – राहत इंदौरी

Dilon me aag labon par gulab rakhte hai
Sab apne cheharon pe dohari nakaab rakhte hai

Hume chraag samajh kar bujha na paaoge
Hum apne ghar me kai aaftaab rakhte hai

Bahut se log ki jo harf-aashna bhi nahi
Isi se khush hai ki teri kitab rakhte hai

Ye maiqada hai, wo masjid hai, wo hai but-khaana
Kahin bhi jaao farishte hisaab rakhte hai

Humare shehar ke manzar na dekh paayenge
Yahan ke log to aankhon me khwaab rakhte hai

                                           – Rahat Indori