Albela Pyaar Poetry By Pankaj Shrivastav


Written by Pankaj Shrivastav, Albela Pyaar lyrics poetry, The Social House Poetry

Albela Pyaar Poetry

घनघोर से जंगल में एक घोंसला बना
जिसमें रहते थे कई चिड़े-चिड़िया
उनमें से था एक नन्हा चिड़ा
बनना चाहता था वो बहुत बड़ा
सब घर वाले उसके चहे चहाते थे
पर उसे कहां ये काम रास आते थे
वो तो ऊपर उड़ना चाहता था
आसमान में अपना घर बनाना चाहता था
बादलों को आवाज सुना कर अपनी
अपना जीवन वही बिताना चाहता था
नए सपने रोज वो चुनता था
अपनी खुशियां खुद ही बुनता था
गिरता था सम्भलता था
पर इरादे कभी ना बदलता था
पर अचानक एक दिन वो हुआ
जो सब कुछ बदल गया
जमीन ही अच्छी लगने लगी
मिट्टी की खुशबू से लगाव हो गया
सब देख हैरान थे
चिड़ा कैसे सपने से जग गया
क्या कोई जादू हुआ
या उसके कान कोई पकड़ गया
चिड़ा मन ही मन मुस्काता था
और दिल में प्यार का हौसला था
उसे चाह हो गई थी नन्ही चिड़िया की
नज़दीक ही जिसका घोंसला था
वो उससे छुप-छुप के मिलता था
घर से झूठ बोलकर निकलता था
बस्ते में बंद कर दिया सारे सपने
अब चिड़िया की ही सुनता था
सादा जीवन उच्च जीवन
अब यही चिड़ा समझता था
रहूंगा सदा चिड़िया का बनकर
बस पृथ्वी पर ही फिरता था
बहुत भटका घोंसला बनाने वो अपना
पर जगह उसे कैसे मिल जाती
जिसने सपने देखे ही नहीं जमीन की
जमीन उसे कहां से अपनाती
बहुत निराश हुआ बेचारा
नहीं मिला कोई सहारा
रोया बहुत चिड़िया के आगे
भटकता था वो दिन दिन सारा
चिड़िया भी बहुत मजबूर थी
वो भी कहां इतना रुक सकती थी
इंतजार करके लंबा सारा
चली डोली में दूर कहीं
चिड़ा उस दिन बहुत रोया
नहीं वो कई पहर सोया
आंसू बेह कर कहते थे
काश बदल सकता जो भी हुआ
रह गया वो बहुत अकेला
जाए तो अब जाए कहां
टूटे सपने बिखरे सब कुछ
नजर पड़ती थी उसकी जहां
फिर एक नया सवेरा हुआ
चिड़ा फिर उठ खड़ा हुआ
माना थोड़ा अपाहिज था
पर विश्वास वही जड़ा हुआ
समय बदले साल बदला
बदला ना उसका अलबेला प्यार
अब तो और भी दीवाना हो गया था वो
करने फिर आसमान को पार
करने फिर आसमान को पार

                                       – पंकज श्रीवास्तव

Ghanghor se jungal mein ek ghonsla bana
Jisme rahte the kayi chide-chidiya
Unmein se tha ek nanha chida
Banna chaahta tha vo bahut bada
Sab ghar waale uske chahe chahate the
Par use kahan ye kaam raas aate the
Wo to upar udna chaahta tha
Aasman mein apna ghar banana chaahta tha
Baadlon ko aawaaj suna kar apni
Apna jeevan wahi bitaana chaahta tha
Naye sapne roj vo chunta tha
Apni khushiyaan khud hi buntaa tha
Girta tha sambhalta tha
Par iraade kabhi na badalta tha
Par achanak ek din vo hua
Jo sab kuch badal gaya
Zameen hi achchhi lagne lagi
Mitti ki khushboo se lagav ho gaya
Sab dekh hairaan the
Chida kaise sapne se jag gaya
Kya koi jaadu hua
Ya uske kaan koi pakad gaya
Chida man hi man muskata tha
Aur dil mein pyaar ka hausla tha
Use chaah ho gayi thi nanhi chidiya ki
Najdeek hi jiska ghonsla tha
Vo usse chhup-chhup ke milta tha
Ghar se jhooth bolakar nikalta tha
Baste mein band kar diya saare sapne
Ab chidiyaa ki hi sunta tha
Saadaa jeevan uchch jeevan
Ab yahi chida samajhta tha
Rahunga sada chidiya ka bankar
Bas priathvi par hi firta tha
Bahut bhatka ghonsla banaane vo apna
Par jagah use kaise mil jaati
Jisne sapne dekhe hi nahin zameen ki
Zameen use kahan se apnati
Bahut nirash hua bechara
Nahin mila koi sahaara
Roya bahut chidiya ke aage
Bhatakta tha vo din-din saara
Chidiya bhi bahut majboor thi
Vo bhi kahan itna ruk sakti thi
Intejaar karke lamba saara
Chali doli mein dur kahin
Chida us din bahut roya
Nahin vo kayi pahar soya
Aansu beh kar kahte the
Kaash badal sakta jo bhi hua
Rah gaya vo bahut akela
jaye to ab jaye kahan
Toote sapne bikhre sab kuch
Najar padti thi uski jahan
Fir ek naya sawera hua
Chida phir uth khada hua
Maana thoda apaahij tha
Par vishwaas wahi jada hua
Samay badle saal badla
Badla naa uska albela pyaar
Ab to aur bhi deewana ho gaya tha vo
Karne phir aasmaan ko paar
Karne phir aasmaan ko paar....

                                  – Pankaj Shrivastav