Agar Khilaaf Hai Hone Do Jaan Thodi Hai | Rahat Indori

Agar Khilaaf Hai Hone Do Jaan Thodi Hai' written and performed by Rahat Indori. This poetry is best Ghazal and Shayari of Rahat Indori



शब्द अर्थ
मसनद अमीरों के बैठने की गद्दी।
सदाक़त सत्यता, सच्चाई।
ज़द हानि, नुकसान।


Agar Khilaaf Hai Hone Do Jaan Thodi Hai

अगर ख़िलाफ़ हैं होने दो जान थोड़ी है
ये सब धुआँ है कोई आसमान थोड़ी है

लगेगी आग तो आएँगे घर कई ज़द में
यहाँ पे सिर्फ़ हमारा मकान थोड़ी है

मैं जानता हूँ के दुश्मन भी कम नहीं लेकिन
हमारी तरहा हथेली पे जान थोड़ी है

हमारे मुँह से जो निकले वही सदाक़त है
हमारे मुँह में तुम्हारी ज़ुबान थोड़ी है

जो आज साहिबे मसनद हैं कल नहीं होंगे
किराएदार हैं जाति मकान थोड़ी है

सभी का ख़ून है शामिल यहाँ की मिट्टी में
किसी के बाप का हिन्दुस्तान थोड़ी है

                                                 – राहत इंदौरी

Agar khilaaf hai hone do jaan thodi hai
Ye sab dhuaan hai aasman thodi hai

Lagegi aag to aayenge ghar kai zad me
Yahan pe sirf humara makan thodi hai

Main jaanta hoon ke dushman bhi kam nahi lekin
Humari tarah hatheli pe jaan thodi hai

Humare muh se jo nikale wahi sadaakat hai
Humare muh mein tumhari zuban thodi hai

Jo aaj saahibe masnad hain kal nahin honge
Kiraaydaar hain jaati makaan thodi hai

Sabhi ka khoon shaamil yahan ki mitti me
Kisi ke baap ka hindustan thodi hai

                                             – Rahat Indori