Waseem Barelvi Poetry Aate Hain aane do, best poetry of wseem barveli


Aate hain aane do....


आते हैं आने दो ये तूफान क्या ले जाएंगे
मैं तो जब डरता कि मेरा हौसला ले जाएंगे

जिस जमीन पर मैं खड़ा हूँ वो मेरी पहचान है
आप आंधी है तो क्या आप मुझ को उड़ा ले जाएंगे

आप बस किरदार हैं अपनी हदें पहचानिए
वरना फिर एक दिन कहानी से निकाले जाएंगे

                                         – वसीम बरेलवी

Aate hain aane do ye toofaan kya le jaayenge
Main to jab darta ki mera hausla le jaayenge

Jis zameen par main khada hoon wo meri pahchaan hai
Aap aandhi hai to kya aap mujh ko uda le jaayenge

Aap bas ek kirdaar hain apni hade pahchaaniye
Warna phir ek din kahaani se nikaale jaayenge

                                   – Waseem Barelvi