Wo Aadmi Nahin Hai Mukammal Bayaan Hai Poetry By Dushyant Kumar

dushyant kumar poems, dushyant kumar shayari, dushyant kumar poetry in hindi, dushyant kumar shayari in hindi, dushyant kumar in hindi, dushyant kumar ki ghazal, Wo Aadmi Nahin Hai Mukammal Bayaan Hai Poetry By Dushyant Kumar,  Wo Aadmi Nahin Hai Mukammal Bayaan Hai Poetry lyrics in hindi, Dushyant Kumar Poetry image



  वो आदमी नहीं है मुकम्मल बयान है - दुष्यंत कुमार  

वो आदमी नहीं है मुकम्मल बयान है
माथे पे उसके चोट का गहरा निशान है

वे कर रहे हैं इश्क़ पे संजीदा गुफ़्तगू
मैं क्या बताऊँ मेरा कहीं और ध्यान है

सामान कुछ नहीं है फटेहाल है मगर
झोले में उसके पास कोई संविधान है

उस सिरफिरे को यों नहीं बहला सकेंगे आप
वो आदमी नया है मगर सावधान है

फिसले जो इस जगह तो लुढ़कते चले गए
हमको पता नहीं था कि इतनी ढलान है

देखे हैं हमने दौर कई अब ख़बर नहीं
पैरों तले ज़मीन है या आसमान है

वो आदमी मिला था मुझे उसकी बात से
ऐसा लगा कि वो भी बहुत बेज़ुबान है

                                                - दुष्यंत कुमार


Wo aadmi nahin hai mukammal bayaan hain 
Maathe pe uske chot ka gahra nishan hain 

Ve kar rahe hain ishq pe sanjida guftgu 
Main kya bataun mera kahin aur dhyaan hain 

Saamaan kuch nahin hai fate-haal hain
Magar jhole mein uske paas koi sanwidhaan hain 

Uss sirfire ko yon nahin bahla sakenge aap 
Wo aadmi naya hain magar sawdhaan hain 

Phisle jo iss jagah to ludhakte chale gaye 
Hamko pata nahin tha ki itni dhalaan hain 

Dekhe hain hamne daur kayi ab khabar nahin 
Pairon tale zameen hain ya aasmaan hain 

Wo aadmi mila tha mujhe uski baat se 
Aisa laga ki wo bhi bahut bejuban hain

                                                          - Dushyant Kumar