Sookha Valentine's Day Poetry - For Singles Only | Prince Preet | The Social House Poetry


Sookha Valentines Day Poetry - For Singles Only | Prince Preet | The Social House Poetry, prince preet poetry, Sookha Valentines Day lyrics poetry, Shayari, Poetry, Valentines day special, यकीन है हर बार की तरह  ये वेलेंटाइन भी सुखा ही जाएगा,


Sookha Valentine's Day

ठंडी हवा रात में तारे 
वो और मैं समुंदर किनारे 
एक दिन और वादे हजार दरमियां हमारे 
बस हवा चले और हमारी बातें 
कुछ शरारत कुछ करामातें 
ऐसा ही मुझे कुछ हसीन सपना आया 
खुली आंख ने हकीकत से रूबरू कराया 
ना हम किसी को प्रपोज करेंगे 
ना हमको किसी का आएगा 
यकीन है हर बार की तरह 
ये वेलेंटाइन भी सुखा ही जाएगा ।

कई जोड़ियों को पार्क लेख पर पकड़ा जाएगा 
फिर उनके घर पे फोन मिलाया जाएगा 
मॉडर्न जमाने में संस्कार याद कराएंगे 
फिर कान पकड़ के माफी भी मंगवाएंगे 
और साथ-साथ राखी का पाठ भी पढ़ाएंगे 
टूटा जो फूल गुलाब का 
अब रिश्ते जोड़ने के काम आएगा 
यकीन है हर बार की तरह 
ये वेलेंटाइन भी सूखा ही जाएगा 

इस त्यौहार ने एक हफ्ते तक चलना है 
और भरी जेबों को खाली करना है 
उधार लेकर गिफ्ट भी खरीदे जाएंगे 
और जुगाड़ के लिए पुराने सामान भी बेचे जाएंगे
और तो और सिंगलस को ओयो में रूम नहीं मिल पाएगा 
यकीन है हर बार की तरह 
ये वेलेंटाइन डे भी सूखा ही जाएगा 

घर पे हजारों तरह के बहाने लगाएंगे 
फलाने दोस्त के साथ फलानी जगह जाएंगे 
घर पे चाहे पानी का गिलास ना उठाएं 
पर आज चांद तारे तोड़ कर लाएंगे 
और हम तो ठहरे नौकर 
रोज की तरह ये नौकर नौकरी पे जाएगा 
यकीन है हर बार की तरह 
ये वेलेंटाइन डे भी सूखा ही जाएगा 

                                                   - प्रिंस प्रीत


Thandi hawa raat mein taare 
Wo aur main samundar kinare 
Ek din aur waade hazaar daramiyaan humare 
Bas hawa chale aur humari baatein
Kuch shararat kuch karamatein 
Aisa hi mujhe kuch haseen sapna aaya 
Khuli aankh ne haqikat se rubru karaya 
Naa ham kisi ko propose karenge 
Naa hamko kisi ka aaaga 
Yakin hai har baar ki tarah 
Ye valentine bhi sookha hi jayega 

Kayi jodiyon ko park lekh par pakada jayega 
Phir unke ghar pe phone milaya jayega 
Mordern zamane mein sanskar yaad karayenge 
Phir kaan pakad ke maafi bhi mangwayenge 
Aur saath-saath raakhi ka paath bhi padhayenge 
Toota jo ful gulaab ka ab rishte jodne ke kaam ayega 
Yakin hai har baar ki tarah 
Ye valentine bhi sookha hi jayega 

Iss tyauhar ne ek hafte tak chalna hai
Aur bhari jebon ko khaali karna hai
Udhaar lekar gift bhi kharide jayenge
Aur jugad ke liye purane saman bhi beche jayenge 
Aur to aur singles ko oyo mein room nahin mil payega 
Yakin hai har baar ki tarah ye 
Ye valentine bhi sookha hi jayega 

Ghar pe hazaron tarah ke bahane lagayenge 
Falane dost ke saath falaani jagah jayenge 
Ghar pe chaahe paani ka galas naa uthayein 
Par aaj chaand taare tod kar layenge 
Aur hum to thahre naukar 
Roj ki tarah ye naukar naukri pe jayega 
Yakin hai har baar ki tarah ye 
Ye valentine bhi sookha hi jayega 

                                                          - Prince Preet