Main Wahin Reh Gaya Poetry By Ravi Singh | The Social House Poetry


hindipoetry, poetry, Main Wahin Reh Gaya Poetry By Ravi Singh | The Social House Poetry, Main Wahin Reh Gaya Poetry lyrics in Hindi, The social house poetry lyrics, The social house videos, तू चल दिया आगे मैं वहीं रह गया नदी बह गई साहिल वहीं रह गया और मुसाफिर आते और जाते रहे  वो दरख़्त वो रास्ता वही रह गया, love poetry, Valentine's day poetry, The social house Shayari, the social house Nazm, The social house Videos, niraj nidan poetry lyrics, Main Wahin Reh Gaya by Ravi singh lyrics, social house poetry lyrics


 Main Wahin Reh Gaya Poetry 

कि साये जिंदगी भी अजीब है
रोज ही लगता है समझ गए
रोज ही कुछ समझा देता है

तू चल दिया आगे मैं वही रह गया
तू चल दिया आगे मैं वहीं रह गया
नदी बह गई साहिल वहीं रह गया
और मुसाफिर आते और जाते रहे
वो दरख़्त वो रास्ता वही रह गया
जिस मोड़ पे हाथ तूने छोड़ा मेरा
भरोसा मेरा कहीं वहीं रह गया
सपनो-हकीकत की खींच तान में
मैं थोड़ा कहीं थोड़ा कहीं रह गया

जुदा है मुझसे, खफा भी है
पर गैरों से मेरी खैर पुछता भी है
वो जा रहा है दूर कभी ना आने को 
पर मुड़-मुड़कर मुझे देखता भी हैं

वो यूं फर्ज़ अपना निभाता चला गया
हर गिरते हुए अपने को उठा था चला गया
परिंदे ताकि आंधियों में रह सके महफुज
वो पेड़ जड़ों को जमीन में समाता चला गया

तासीर कुछ फर्क थी उन हवाओं की
ठंडक भी देती थी गर्म भी रखती थी
और जब मारती थी मां गलती पे किसी
हाथ सख्त भी और नरम भी रखती थी

मुझसे कोई वादा करना तो सोचकर करना
मैं एक वादे पे उम्रे गुजार देता हूं

हंसता था जो मेरी दीवानगी की शिद्दत पे कभी
जमाने में आज उसका नाम कभी अकेले नहीं आता....!!

                                                             – रवि सिंह


Ki saaye zindagi bhi ajeeb hain
Roz hi lagta hain samajh gaye
Roz hi kuch samjha deta hain

Tu chal diya aage main wahin rah gaya
Tu chal diya aage main wahin rah gaya
Nadi bah gayi sahil wahin rah gaya
Aur musafir aate aur jaate rahe
Wo darakht wo raasta wahin rah gaya
Jis mod pe haath tune chhoda mera
Bharosa mera kahin wahin rah gaya
Sapno-haqeeqat ki khinch taan mein,
Main thoda kahin, thoda kahin rah gaya

Juda hai mujhse, khafa bhi hain
Par gairon se meri khair puchhta bhi hain
Wo ja raha hain dur kabhi naa aane ko 
Par mud-mudakar mujhe dekhta bhi hain

Wo yun farz apna nibhata chala gaya
Har girte hua apne ko utha tha chala gaya
Parinde taaki aandhiyon mein rah sake mahafooz
Wo ped jadon ko zameen mein samaata chala gaya

Taasir kuch farq thi un hawaaon ki
Thandak bhi deti thi garm bhi rakhti thi
Aur jab maarti thi maa galti pe kisi
Haath sakht bhi aur naram bhi rakhti thi

Mujhse koi vaada karna to sochakar karna
Main ek vaade pe umre gujaar deta hoon
Hansta tha jo meri deewangi ki shiddat pe kabhi
Zamane mein aaj uska naam kabhi akele nahin aata....!!

                                                        – Ravi Singh