Ladki Ka Muqadama Poetry | Ranjana & Aryan | The Social House Poetry


Ladki Ka Muqadama Poetry | Ranjana & Aryan | The Social House Poetry, The social house poetry lyrics ranjana in hindi, Ladki ka Muqadama poetry lyrics, The social house video, तभी मुख्तसर यह जिंदगी मुझे अफसाने हजार देती है  यह दुनिया मुझे मेरे कपड़ों की दुहाई दिया करती है,


 Ladki Ka Muqadama 

मुख़्तसर यह जिंदगी मुझे अफसाने हजार देती है
दुनिया मुझे मेरे पहनावे की दुहाई दिया करती है
लड़की है तू... यह कैसे कपड़े तूने पहने है? 
थोड़ा मेकअप कर, थोड़े बाल बना 
बाहर तुझे देखने वाले जो बैठे हैं 
सज-धजकर चलने वाले कुछ तो 
लो स्टैंडर्ड(Low Standard) तक कह जाते हैं 
देखा मैंने दिल की कोई कीमत नहीं 
यहां तो बस चेहरे परखे जाते है 

मगरूर है ये दुनिया अक्सर अश्क दिखाया करती है 
खुद परेब का चादर ओढ़े, 
यहां हम को कपड़े सजेस्ट करती हैं 
तभी मुख्तसर यह जिंदगी मुझे अफसाने हजार देती है 
यह दुनिया मुझे मेरे कपड़ों की दुहाई दिया करती है 

कहते हैं अपने चलने का स्टाइल बदल 
अपने चलने का स्टाइल बदल 
क्या लड़कों जैसी चलती है 
थोड़ा तो एटीट्यूड मे रह 
क्यों तू उछलती फिरती है 
सफ़िस्‌टिकेटिड्‌(Sophisticated) थोड़े रहने वाले 
हमको गवार तक समझ जाते हैं
देखा मैंने हां देखा मैंने खुशियों की यहां कोई कद्र नहीं
यहां तो बस आपके चलने के ढंग देखे जाते हैं


मुवक्किल है यह दुनिया हमारी रजा बताया करती है 
खुद कटघरे में खड़ी है और 
यहां सजा सुनाया करती है
तभी मुख्तसर यह जिंदगी मुझे अफसाने हजार देती है  
यह दुनिया मुझे मेरी बेफिक्री की दुहाई दिया करती है

लोग कहते हैं कि घर से तो बाहर निकल 
चल घूमना फिरना करते हैं 
एक ही तो जिंदगी है, 
चल आ यार थोड़ा चिल करते हैं 
पर अब ना कहने पर मुझको भी, 
बोरिंग का तमका तक पहना जाते हैं 
देखा मैंने मनमर्जी की कोई फिक्र नहीं 
यहां तो बस आपके आउटिंग प्लानस परखे  जाते हैं 
तन्हा है यह दुनिया बेशुमारी से साथ को तड़पा करती है 
खुद की छाया इसके साथ नहीं 
और हम को अपना हाथ थमाया करती है
तभी मुक्तसर यह जिंदगी मुझे अफसाने हजार देती है 
यही दुनिया हां लोगों यही दुनिया 
मुझे मेरे वजूद की दुहाई दिया करती हैं

मुक्तसर यह जिंदगी तेरे अफसाने हजार मिलते हैं
कभी गोता तो लगा इन दिलों की गहराइयों में
फिर देख तुझे यहां नज़राने क्या क्या मिलते हैं
हैं अगर जिंदगी तुम्हारी तो जिंदगी भी हमारी है 
 है अगर ख्वाहिशे तुम्हारी तो ख्वाहिशे भी हमारी है
फिर तुम्हारी मेन्टालिटी मुझ पर वैलिड हो
ऐसा क्यों समझते हो ? 
सबकी अपनी एक कहानी है यार 
क्यों तुम किसी को जज करते हो 

जिन्दगी की भागदौड़ में तुम बहुत कुछ छोड़ रहे हो
खुद को दूसरों से ऊपर समझ, 
तुम बहुत नीचे हो रहे हो 
अगर यह सोचते हो की
मेरा पहनावा या मेरे चलने का ढंग 
या मेरा घुमने-फिरने से मना करना, 
मेरी फितरत को दिखलाता है तो 
तुम लोगों...तुम लोगों भरी महफिल को, 
एक कोने में बसा शमशान समझ रहे हो

                                                          – रंजना

Mukhtasar yah zindagi mujhe afsaane hazaar deti hai duniya
Mujhe mere pahnave ki duhaai diya karti hai
Ladki hai tu... yah kaise kapade tune pahne hai?
Thoda makeup kar,
Thode baal bana
Bahar tujhe dekhne wale jo baithe hain
Saj-dhajkar chalne wale kuch to
Low standard tak kah jaate hain
Dekha maine dil ki koi keemat nahin
Yahan to bas chehre parkhe jaate hain
Magrur hain ye duniya aksar ashq dikhaya karti hai
Khud pareb ka chaadar odhe,
Yahan ham ko kapade suggest karti hain
Tabhi mukhtasar yah zindagi
Mujhe afsaane hazaar deti hain
Yah duniya mujhe mere kapadon ki duhaai diya karti hain

Kahte hain apne chalne ka style badal
Apne chalne ka style badal
Kya ladkon jaisi chalti hai...?
Thoda to attitude mein reh
Kyon tu uchhalti phirti hain...??
Sophisticated thode rahne wale
Hamko gawaar tak samajh jaate hain
Dekha maine haan dekha maine Khushiyon ki yahaan koi kadr nahin
Yahaan to bas aapke chalne ke dhang dekhe jaate hain

Muvkkil hai yah duniya hamaari razaa bataya karti hain
Khud katghre mein khadi hain
Aur yahaan saza sunaya karti hain
Tabhi mukhtasar yah zindagi
Mujhe aphsaane hazaar deti hain
Yah duniya mujhe meri befikri ki duhaai diya karti hain

Log kahte hain ki ghar se to bahar nikal
Chal ghumna firna karte hain
Ek hi to zindagi hai,
Chal aa yaar thoda chill karte hain
Par ab na kahne par mujhko bhi,
Boring ka tamka tak pahna jaate hain
Dekha maine mannmarzi ki koi fikr nahin
Yahan to bas aapke outing plans parkhe jaate hain
Tanha hain yah duniya
Beshumari se saath ko tadapa karti hain
Khud ki chhaya iske saath nahin
Aur ham ko apna haath thamaya karti hain
Tabhi muktasar yah zindagi mujhe afsaane hazaar deti hain
Yahi duniya... haan logon,
Yahi duniya... mujhe mere wajood ki duhaai diya karti hain

Muktasar yah zindagi tere afsaane hazaar milte hain
Kabhi gota toh laga in dilon ki gahrayiyon mein
Phir dekh tujhe yahan najrane kya-kya milte hain
Hain agar zindagi tumhari,
Toh zindagi bhi hamaari hain
hain agar khwahishein tumhari,
Toh khwahishein bhi hamaari hain
Phir tumhari mentality mujh par vailid ho...
Aisa kyon samajhte ho ?
Sabki apni ek kahaani hai yaar
Kyon tum kisi ko judge karte ho

Zindagi ki bhag-daud mein
Tum bahut kuch chhod rahe ho
Khud ko dusron se upar samajh,
Tum bahut niche ho rahe ho
Agar yah sochte ho ki mera pahnawa
Ya mere chalne ka dhang
Ya mera ghumne-phirne se mana karna,
Meri fitarat ko dikhlata hain to
Tum logon...
Tum logon bhari mahaphil ko,
Ek kone mein basa shamshaan samajh rahe ho.

                                                                     – Ranjana