Ishq Mein Sukoon Poetry | Niraj Nidan | Nazmein aur Shayari | The Social House Poetry


Ishq Mein Sukoon Poetry | Niraj Nidan | Nazmein aur Shayari | The Social House Poetry, Ishq Mein Sukoon Poetry lyrics in Hindi, The social house poetry lyrics, The social house videos, मैं राह का वो खूबसूरत पत्थर हूं साहब  जिसे देखने सब आएंगे  कोई घर ना लेकर जाएगा, love poetry, Valentine's day poetry, The social house Shayari, the social house Nazm, The social house Videos, niraj nidan poetry lyrics, Ishq Mein Sukoon by niraj nidan lyrics, social house poetry lyrics,


  Ishq Mein Sukoon Poetry  

मैं राह का वो खूबसूरत पत्थर हूं साहब 
जिसे देखने सब आएंगे 
कोई घर ना लेकर जाएगा..

मैं रातें बेच रहा था उसके दिन सवारने को 
वक्त ही ना मिला वो जो रूठा तो मनाने को
इश्क़ की चिंगारीओं ने ही जला के ख़ाक किया रिश्ता मेरा 
गैर की जरूरत ही ना पड़ी दरमियां दीवार बनाने को 
वो समझदार हुई तो ढूंढ लाई मुझ जैसा दूसरा कोई 
लड़कपन में तो यही कहती थी या तो तू चाहिए या कोई भी नहीं

अगर मुझसे ना मिला सुकून तुझे इश्क में 
अगर मुझसे ना मिला सुकून तुझे इश्क में
तो तू लाख कर ले मोहब्बत, 
ये कहीं ना मिलेगा 
तूने चखा ही नहीं सलीके से इश्क मेरा 
नशा जो मेरी मोहब्बत में है, 
वो कहीं और न मिलेगा 
तेरे बदन को छुआ होता तो 
तू मेरी छुअन मिटा देती 
तेरी रूह के एहसास में हूं 
मैं मिटाए ना मिटूंउगा

तुझसे बिछड़ा तो ये समझ में आया कितना भरम था
 इश्क में टिकाऊ हो गया हूं मैं 
अब जो चाहे वो खरीद लेता है एक हमदर्दी के बदले मुझे
मैं जो मिसाल-ए-इश्क था देखिए 
कितना बिकाऊ हो गया हूं मैं 
लोग कहते हैं मेरा इश्क गया तो मेरी अकड़ भी चली गई 
लोग कहते हैं मेरा इश्क गया तो मेरी अकड़ भी चली गई 
तुम लौट आओ इस खातिर 
हर दर पर सर पटकता हूं 
और लोग समझते हैं 
कितना सर झुकाऊ हो गया हुं मैं

मुझसे दूर जाना है तो कोशिशें और तेज कर दो
मौसम जो सर्द हुआ तुम इरादा बदल दोगी फिर से....!!

                                                – निरज निदान 

Main raah ka wo khubsurat patthar hoon sahab 
Jise dekhne sab ayenge 
Koi ghar na lekar jayega.. 

Main raatein bech raha tha 
Uske din sawaarne ko 
Waqt hi na mila 
Wo jo rutha to manane ko 
Ishq ki chingaariyon ne hi jala ke khaak kiya rishta mera 
Gair ki jaroorat hi na padi daramiyaan diwaar banaane ko
   
Wo samajhdaar hui to dhundh layi mujh jaisa dusra koi 
Ladakpan mein to yahi kahti thi ya toh tu chaahia ya koi bhi nahin 

Agar mujhse na mila sukun tujhe ishk mein 
Agar mujhse na milaa sukun tujhe eshk mein 
To tu laakh kar le mohabbat, 
Ye kahin na milega 
Tune chakha hi nahin salike se ishq mera 
Nasha jo meri mohabbat mein hain, 
Wo kahin aur na milega 
Tere badan ko chhua hota toh tu meri chhuan mita deti 
Teri ruh ke ehsaas mein hoon main mitaaye naa mitunuga 

Tujhse bichhada toh ye samajh mein aaya 
Kitna bharam tha ishq mein tikau ho gaya hoon main 
Ab jo chaahe wo kharid leta hain 
Ek hamdardi ke badle mujhe 
Main jo misaal-e-ishq tha 
Dekhiye kitna bikaau ho gaya hoon main 
Log kahte hain mera ishq gaya to meri akad bhi chali gayi 
Log kahte hain mera ishq gaya to meri akad bhi chali gayi 
Tum laut aao is khatir har dar par sar patakta hoon 
Aur log samajhte hain kitna sar jhukaau ho gaya hoon main 

Mujhse dur jaana hai to koshishein aur tez kar do mausam jo sard hua tum irada badal dogi phir se...!!

                                                    – Niraj Nidan