Dushyant Kumar - Iss Nadi Ki Dhaar Mein Thandi Hawa Aati To Hai Poetry

Dushyant kumar poems, dushyant kumar shayari, dushyant kumar poetry in hindi, dushyant kumar shayari in hindi, dushyant kumar in hindi, dushyant kumar ki ghazal, Dushyant Kumar - Iss Nadi Ki Dhaar Mein Thandi Hawa Aati To Hai Poetry, Iss Nadi Ki Dhaar Mein Thandi Hawa Aati To Hai Poetry By Dushyant Kumar, Iss Nadi Ki Dhaar Mein Thandi Hawa Aati To Hai Poetry lyrics in hindi, इस नदी की धार में ठंडी हवा आती तो है नाव जर्जर ही सही, लहरों से टकराती तो है Hindi Kavita



Difficult Words:
निर्वसन - बलपूर्वक निकाल देना।

  इस नदी की धार में ठंडी हवा आती तो है - दुष्यंत कुमार  

इस नदी की धार में ठंडी हवा आती तो है
नाव जर्जर ही सही, लहरों से टकराती तो है

एक चिनगारी कहीं से ढूँढ लाओ दोस्तों
इस दिए में तेल से भीगी हुई बाती तो है

एक खंडहर के हृदय-सी, एक जंगली फूल-सी
आदमी की पीर गूंगी ही सही, गाती तो है

एक चादर साँझ ने सारे नगर पर डाल दी
यह अँधेरे की सड़क उस भोर तक जाती तो है

निर्वसन मैदान में लेटी हुई है जो नदी
पत्थरों से, ओट में जा-जाके बतियाती तो है

दुख नहीं कोई कि अब उपलब्धियों के नाम पर
और कुछ हो या न हो, आकाश-सी छाती तो है

                                                           - दुष्यंत कुमार


Iss nadi ki dhaar mein thandi hawa aati to hai
Naav jar-jar hi sahi, lahron se takraati to hai

Ek chingaari kahin se dhund lao doston
Iss diya mein tel se bhigi hui baati to hai

Ek khand-har ke hriday-si, ek jungli ful-si
Aadmi ki pir gungi hi sahi, gaati to hai

Ek chaadar saanjh ne saare nagar par daal di
Yah andhere ki sadak uss bhor tak jaati to hai

Nirvasan maidaan mein leti hui hai
jo nadi
Patthron se, ot mein jaa-jaake batiyaati to hai

Dukh nahin koi ki ab upalabdhiyon ke naam par
Aur kuch ho ya na ho, aakash-si chhaati to hai

                                                                - Dushyant Kumar