Dushiyant Kumar - Main Jise Odhta Bichhata Hoon Poetry


Dushyant kumar poems, dushyant kumar shayari, dushyant kumar poetry in hindi, dushyant kumar shayari in hindi, dushyant kumar in hindi, dushyant kumar ki ghazal, Dushiyant Kumar - Main Jise Odhta Bichhata Hoon Poetry, Dushiyant Kumar - Main Jise Odhta Bichhata Hoon Poetry By Dushyant Kumar, Main Jise Odhta Bichhata Hoon Poetry lyrics in hindi, तू किसी रेल सी गुज़रती है मैं किसी पुल सा थरथराता हूँ poetry in Hindi


  मैं जिसे ओढ़ता बिछाता हूँ - दुष्यंत कुमार  

मैं जिसे ओढ़ता बिछाता हूँ 
वो ग़ज़ल आप को सुनाता हूँ

एक जंगल है तेरी आँखों में 
मैं जहाँ राह भूल जाता हूँ

तू किसी रेल सी गुज़रती है 
मैं किसी पुल सा थरथराता हूँ

हर तरफ़ एतराज़ होता है 
मैं अगर रौशनी में आता हूँ

एक बाज़ू उखड़ गया जब से 
और ज़्यादा वज़न उठाता हूँ

मैं तुझे भूलने की कोशिश में 
आज कितने क़रीब पाता हूँ

कौन ये फ़ासला निभाएगा 
मैं फ़रिश्ता हूँ सच बताता हूँ 

                                           - दुष्यंत कुमार        


Main jise odhta bichhata hoon  
Wo ghazal aap ko sunata hoon  

Ek jungal hai teri aankhon mein  
Main jahan raah bhul jata hoon  

Tu kisi rail si gujarti hai  
Main kisi pul sa thar-thrata hoon
  
Har taraf aitraaz hota hai  
Main agar raushni mein aata hoon
Ek baaju ukhad gaya jab se  
Aur jyada wajan uthata hoon
  
Main tujhe bhulne ki koshish mein 
Aaj kitne kreeb pata hoon
  
Kaun ye faasla nibhayega  
Main farishta hoon sach batata hoon

                                                       - Dushyant Kumar