Adhura Pyar Poetry | Sameeksha Dubey | The Social House Poetry


Adhura Pyar Poetry | Sameeksha Dubey | The Social House Poetry, Adhura Pyar Poetry lyrics in Hindi, The social house poetry lyrics, The social house videos, अधूरी थी अधूरी‌ हुं और अधूरी ही रह जाऊंगी, तेरी प्रेम कहानी का एक किस्सा मैं कहलाऊंगी, love poetry, Valentines day poetry,


 Adhura Pyar Poetry 


खुद की तलाश में खुद को मीलो भटकाया करती हूं 
बस इसी बहाने जिंदगी का कुछ हिसाब चुकाया करती हूं
अभी अभी तो पर फैलाए हैं 
अभी तो लंबी उड़ान की तैयारी है 
इससे आगे मेरी नहीं मेरे अल्फाजों की बारी है।

अधूरी थी अधूरी‌ हुं और अधूरी ही रह जाऊंगी 
तेरी प्रेम कहानी का एक किस्सा मैं कहलाऊंगी 
जान मैं अंधेरी रात, तु खुशनुमा सहर है 
शायद अपने मिलन का न बना कोई पहर है 
मैं जब ढलने लगूंगी तू आता दिखेगा मुझे 
फिर इन पंछियों सग तू कुछ गुनगुनाता दिखेगा मुझे, 
लेकिन तेरे सामने आकर भी मैं तुझसे ही छुप जाऊंगी 
अधूरी थी अधूरी हूं और अधूरी ही रह जाऊंगी 
तेरी प्रेम कहानी का एक किस्सा मैं कहलाऊंगी
कहते हैं लोग ए रात तू बड़ी खुशनसीब है 
चांद तेरे पहलू में है और तारों की तू अजीज़ है कौन जाने तन्हा अंधेरे में जब खुद से ही घबराती हूं
तेरी एक झलक पाने को सौ मौते मर जाती हूं
चाहूं तुझको जितना जाना 
पर ये दूरी ना भर पाऊंगी 
अधूरी थी अधूरी हूं और अधूरी ही रह जाऊंगी तेरी प्रेम कहानी का एक किस्सा मैं कहलाऊंगी

और जानती हूं बेहतर है कुछ किस्सों का 
क़िस्सा ही रह जाना 
पर मेरे दिल में मुश्किल है किसी और का आना
तेरे बिन मेरी हर पहचान अधूरी है 
शायद मेरी मोहब्बत की एकलौती मजबूरी है 
और लेकिन तेरी एक पल की चाहत पर 
मैं सदियां आज लुटाऊंगी 
अधूरी थी अधूरी हूं और अधूरी ही रह जाऊंगी तेरी प्रेम कहानी का एक किस्सा मैं कहलाऊंगी

                                                  – समीक्षा दुबे

Khud ki talash mein khud ko 
Milo bhatkaya karti hoon 
Bas isi bahane zindagi ka kuch hisaab chukaya karti hoon 
Abhi abhi to par failaye hain 
Abhi to lambi udaan ki taiyaari hain
Isse aage meri nahin mere alfazon ki baari hain. 

Adhuri thi adhuri‌ hun aur adhuri hi rah jaaungi 
Teri prem kahani ka ek kissa main kahlaungi
Jaan main andheri raat, 
Tu khushanuma sahar hain 
Shayad apne milan ka na bana koi pahar hain 
Main jab dhalne lagungi tu aata dikhega mujhe 
Phir in panchhiyon sag tu kuchh gunagunata dikhega mujhe, 
Lekin tere saamne aakar bhi main tujhse hi chhup jaaungi 
Adhuri thi adhuri hoon aur adhuri hi rah jaaungi 
Teri prem kahani ka ek kissa main kahlaungi   

Kahte hain log aye raat tu badi khushansib hain 
Chaand tere pahlu mein hain 
Aur taaron ki tu aziz hain kaun jaane tanha andhere mein jab khud se hi ghabrati hoon 
Teri ek jhalak paane ko sau maute mar jaati hoon 
Chaahun tujhko jitna jana 
Par ye duri naa bhar paaungi 
Adhuri thi adhuri hoon aur adhuri hi rah jaaungi 
Teri prem kahani ka ek kissa main kahlaungi 

Aur jaanti hun behatar hai kuch kisson kaa 
Kissa hi rah jana 
Par mere dil men mushkil hai kisi aur ka aana 
Tere bin meri har pahchan adhuri hain
Shayad meri mohabbat ki eklauti majburi hain 
Aur lekin teri ek pal ki chahat par
Main sadiyaan aaj lutaaungi 
Adhuri thi adhuri hoon aur adhuri hi rah jaungi 
Teri prem kahani ka ek kissa main kahlaungi

                                         – Sameeksha Dubey