Wo Laut Kar Aaye Toh Maine Nazarandaz Kar Diya – Priya Pareek

Wo Laut Kar Aaye Toh Maine Nazarandaz Kar Diya By Priya Pareek | The Social House Poetry, The Social house poetry image quotes, The social house Videos, Wo Laut Kar Aaye Toh Maine Nazarandaz Kar Diya  lyrics poetry Priya Pareek the social house


Difficult Words:
अगरचे = यद्यपि, हालाँकि, यदि।
फ़ेहरिस्त = सूची, तालिका, सूचीपत्र।


 Wo Laut Kar Aaye Toh Maine Nazarandaz Kar Diya 

टूटे हुए दिल का कुछ ऐसा हश्र करती हूं
ये शेर मेरा संभालो मैं ग़ज़लों से कत्ल करती हूं

खबर लेकर उसके हर मर्ज की
चंद पलों में बेखबर हो जाना
बहुत आम हो चला है शायर का दिल तोड़ कर अमर हो जाना

जिंदगी को महज एक दर्द काफी है, रंजिशो के शोर में,
बहुत सस्ती हो चली है मोहब्बत
आशिकी के दौर में

किसी के पलभर की आदत किसी का उम्र भर का धोखा है
इंसान का इंसान को भूल जाना भी अजीब तौहफा है

अगरचे ख्वाहिशें सब झुलस गई तेरी रंजिश की आग में
फिर भी है ख्वाब कोई बाकी की दिल है तेरी ताक में

बर्फीली हवा से ये इंतजा है की और सर्द हो
इस दर्द को ये दवा है कि और दर्द हो

उठ जाता है जो एक बार तो भरोसा दोबारा नहीं होता
वो जो देता है मेरी अश्क, मेरी जां वो शख्स तुम्हारा नहीं होता

कुछ इस अदा से मैंने जंग का आगाज कर दिया 
वो लौटकर आया तो मैंने नजरअंदाज कर दिया
एक दौर था की उससे बढ़कर
चाहा नहीं था कुछ
एक दौर है कि उसकी चाहत से खुद को आजाद कर दिया
वो लौटकर आया तो मैंने नजरअंदाज कर दिया

बहुत मायूस हुए थे कभी की वो वक्त कुछ और था
जब रोया करते थे तेरी याद में वो अलग दौर था
अब हो चला है सयानो की फ़ेहरिस्त में ये दिल शामिल
और इल्म यह हुआ है कि तू है नहीं इस मोहब्बत के काबिल
भुला दिया है मैंने उस मोहब्बत को
जिसने मुझको बर्बाद कर दिया
वो लौटकर आया तो मैंने नजरअंदाज कर दिया

देखकर दस्तूर दुनिया का मेरा यह दिल संभल गया
तेरे खातिर जब आते थे आंसू
अब वो वक्त बदल गया
अब तेरे होने ना होने से मुझे कोई फर्क नहीं है
ऐसा भी नहीं की दिल को मेरे दर्द नहीं है
दिल खुद ही खुद का तोड़ कर मैंने जिंदा लाश कर दिया
वो लौटकर आया तो मैंने नजरअंदाज कर दिया

अब इस बात से उदास है कि तब इतने उदास क्यों हुए
कुछ खास नहीं था तुममें फिर इतने खास क्यों हुए
यूं ही किये ये आंसू जाया तुम पर
और जाया कुछ एहसास हुए
ये भी गनीमत है कि बेपर्दा कुछ राज तो हुए
दूर दिल से तेरी मोहब्बत का हर एहसास कर दिया
वो लौटकर आया तो मैंने नजरअंदाज कर दिया
कुछ इस अदा से जंग का आगाज कर दिया
वो लौटकर आया तो मैंने नजरअंदाज कर दिया

तेरी यारी पर ना मुझे अब ऐतबार होगा
मेरे दर्द का किस्सा ना अब सरे बाजार होगा
होगा जो भी है कायनात को रजा मगर
मेरे इश्क को ना गम इस बार होगा
मेरे इश्क को ना गम इस बार होगा।

                                                      – प्रिया पारीक



Tute hue dil ka kuch aisa hashr karti hoon 

Ye sher mera sambhaalo main ghazalon se katl karti hoon   

Khabar lekar uske har marz ki chand palon mein bekhabar ho jaana 
Bahut aam ho chala hai shaayar ka dil tod kar amar ho jaana   

Zindagi ko mahaz ek dard kaafi hai, ranjisho ke shor mein, 
Bahut sasti ho chali hai mohabbat Aashiqi ke daur mein 

Kisi ke pal bhar ki aadat kisi ka uamr bhar ka dhokhaa hai 
Insaan ka insaan ko bhul jaana bhi ajeeb tauhfa hai   
Agarche khwahishein sab jhulas gayi teri ranjish ki aag mein 
Phir bhi hain khwaab koi baaki ki dil hai teri taak mein 

Barfili hava se ye intza hai ki aur sard ho 
Is dard ko ye dava hai ki aur dard ho

Uth jaata hai jo ek baar 
To bharosa dobaara nahin hota 
Wo jo deta hai meri ashq, meri jaan Wo shakhs tumhaara nahin hota

Kuch is ada se maine jang ka aagaj kar diya  
Wo lautkar aaya to maine najarandaaz kar diya 
Ek daur tha ki usse badhkar chaha nahin tha kuch 
Ek daur hai ki uski chahat se khud ko ajad kar diya 
Wo lautkar aaya to maine najar-andaaz kar diya 

Bahut maayus hue the kabhi ki wo waqt kuch aur tha 
Jab roya karte the teri yaad mein 
Wo alag daur tha 
Ab ho chala hai sayaano ki fehrist mein ye dil shaamil 
Aur ilam ye hua hai ki tu hai nahin is mohabbat ke kaabil 
Bhula diya hai maine us mohabbat ko jisne mujhko barbaad kar diya 
Wo lautkar aaya to maine najar-andaaz kar diya 

Dekhkar dastur duniya ka mera ye dil sambhal gaya 
Tere khaatir jab aate the aansu 
Ab wo waqt badal gaya 
Ab tere hone naa hone se mujhe koi fark nahin hai 
Aisa bhi nahin ki dil ko mere dard nahin hai 
Dil khud hi khud ka tod kar maine jinda laash kar diya 
Wo lautkar aaya to maine najar-andaaj kar diya 

Ab is baat se udaas hai ki tab itne udaas kyon hue
Kuch khaas nahin tha tum mein 
Phir itne khaas kyon hue 
Yun hi kiye ye aansu jaaya tum par
Aur jaaya kuch ehsaas hue 
Ye bhi ganimat hai ki beparda kuch raaj to hue 
Dur dil se teri mohabbat ka har ehsaas kar diya 
Wo lautkar aaya to maine najar-andaaj kar diya 

Kuchh is ada se jang ka aagaaj kar diya 
Wo lautkar aaya to maine najar-andaaj kar diya 
Teri yaari par naa mujhe ab aitbaar hoga 
Mere dard ka kissa naa ab sare bazaar hoga 
Hoga jo bhi hai kaynaat ko raza magar 
Mere ishq ko naa ghum is baar hoga
Mere ishq ko naa ghum is baar hoga

                                                     – Priya Pareek