Ungliyan yun na sab par uthaya karo (राहत इंदौरी)


Ungliyan Yun Na Sab Par Uthaya Karo – Rahat Indori | Ghazal Poetry, Rahat Indori ki shayari, Rahat Indori quotes image, Dosti Poetry, Dosti poem. Rahat Indori mushaira, उँगलियाँ यूँ न सब पर उठाया करो  खर्च करने से पहले कमाया करो।


Difficult Words:
ज़र्फ़ = क्षमता

  Ungliyan yun na sab par uthaya karo   

उँगलियाँ यूँ न सब पर उठाया करो
खर्च करने से पहले कमाया करो

ज़िन्दगी क्या है खुद ही समझ जाओगे
बारिशों में पतंगें उड़ाया करो

दोस्तों से मुलाक़ात के नाम पर
नीम की पत्तियों को चबाया करो

शाम के बाद जब तुम सहर देख लो
कुछ फ़क़ीरों को खाना खिलाया करो

अपने सीने में दो गज़ ज़मीं बाँधकर
आसमानों का ज़र्फ़ आज़माया करो

चाँद सूरज कहाँ, अपनी मंज़िल कहाँ
ऐसे वैसों को मुँह मत लगाया करो।

                                                – राहत इंदौरी

Ungliyan yun na sab par uthaya karo
Kharch karne se pahle kamaaya karo

Zindagi kya hai khud hi samjah jaaoge
Baarishon me patange udaaya karo

Dosto se mulaakat ke naam par
Neem ki pattiyon ko chabaaya karo

Shaam ke baad jab tum shahar dekh lo
Kuch faqeeron ko khaana khilaaya karo

Apne seene me do gaj zameen baandh kar
Aasmano ka zarf aajmaaya karo

Chaand sooraj kahan, apni manzil kahan
Aaise waiso ko muh mat lagaaya karo.

                                                     – Rahat Indori