Teri Yaad ko Bhula Chuka Hoon – Manav


Teri Yaad ko Bhula Chuka Hoon By Manav | The Social House Poetry, Teri yaad ko bhula chuka hoon main lyrics Manav social house, The social house Teri yaad ko bhula Chaka hu Mai poetry, Love poetry, love Shayari, love Quotes, the social house all poetry in Hindi, The social house image download, Khair tum par likhi apni saari,  Ab ghazal ko jala chuka hoon main Tum meri chinta mat karna  Teri yaad ko bhula chuka hoon main


Teri Yaad ko Bhula Chuka Hoon

सुना है आईने को देखकर अब वो शर्मिंदा है
मैं कैसा हूं किस हाल में हूं
उसे इसी बात की चिंता है
तो कह दो उसे
उससे जुड़ी हर बात को भुला चुका हूं मैं
जिस मोड़ पर उसके वादे थे,
उस मोड़ को मुड़ा चुका हूं मैं
तुम मेरी चिंता मत करना
तेरी याद को भुला चुका हूं मैं

वो जिनके कंधे मन को तेरे,
अब जान से ज्यादा भाते हैं
वो हमसे सीख के इश्क मेरी जां
फिर तुम पे आजमाते है
वो चेले हैं सारे अपने
पर धोखा देते अक्सर है
जो शायरी तुम्हें सुनाते हैं
वो मेरी गजल के अक्षर है
खैर तुम पर लिखी अपनी सारी
अब गजल को जला चुका हूं मैं
तुम मेरी चिंता मत करना
तेरी याद को भुला चुका हूं मैं

अब यार के साथ हूं बार में मैं
अब सारा मोह झूठा है
एक हाथ में मेरे बोतल है
दूजे में जलता सुट्टा है
पहले तुम अच्छी फोटो को भी कहते थे ये क्रीपी है
अब ऊंट के ऊपर बंदर वाली फोटो मेरी डीपी है
अब यारों में बसी है जान मेरी
तेरा नंबर मिटा चुका हूं मैं
तुम मेरी चिंता मत करना
तेरी याद को भुला चुका हूं मैं

तू एक जगह नहीं रुक सकती
तुझे झूठे प्यार की खारिश है
जिसने जग को बर्बाद किया
तू उसी कॉम की वारिस है
हां रोए थे एक अरसे हम
अब तुझ जैसे 36 आते हैं
किस-किस को प्यार करूं
ये मुखड़ा हर दिन हम दोहराते हैं
तेरे गुस्से में तेरे जैसो को
अब कईयों को रूला चुके हैं हम
तुम मेरी चिंता मत करना
तेरी याद को भुला चुके हैं हम

मर के जीते हैं कैसे.... बताना पड़ेगा
तुम्हें मैंने इश्क सिखाना पड़ेगा
छोटी सी खरोच से बहाते हो आंसु
तुम्हें अपना दिल दिखाना पड़ेगा
तुम्हें अपना दिल दिखाना पड़ेगा

                                                             – मानव


Suna hai aaine ko dekh kar ab vo sharminda hai
Main kaisa hoon kis haal mein hoon
Use isi baat ki chinta hai
To kah do use
Usse judi har baat ko bhula chuka hoon main
Jis mod par uske vaade the,
Us mod ko muda chuka hoon main
Tum meri chinta mat karna
Teri yaad ko bhula chuka hoon main

Wo jinke kandhe mann ko tere,
Ab jaan se jyada bhaate hain
Wo humse sikh ke ishq meri jaan
Phir tum pe aajmate hai
Wo chele hain saare apne
Par dhokha dete aksar hai
Jo shayari tumhein sunate hain
Wo meri ghazal ke akshar hai
Khair tum par likhi apni saari,
Ab ghazal ko jala chuka hoon main
Tum meri chinta mat karna
Teri yaad ko bhula chuka hoon main

Ab yaar ke saath hoon baar mein main
Ab saara moh jhutha hai
Ek haath mein mere, bottle hai
Dooje mein jalta sutta hai
Pahle tum acchi photo ko bhi kahte the ye creepy hai
Ab unth ke upar bandar wali photo meri DP hai
Ab yaaron mein basi hai jaan meri
Tera numbar mita chuka hoon main
Tum meri chinta mat karna
Teri yaad ko bhula chuka hoon main

Tu ek jagah nahin ruk sakti
Tujhe jhuthe pyaar ki khaarish hai
Jisne jag ko barbaad kiya
Tu usi kaum ki waaris hai
Haan roye the ek arse hum
Ab tujh jaise 36 aate hain
kis-kis ko pyaar karoon,
Ye mukhada har din hum dohraate hain
Tere gusse mein tere jaiso ko
Ab kayiyon ko rula chuke hain hum
Tum meri chinta mat karna
Teri yaad ko bhula chuke hain hum

Mar ke jeete hain kaise.... bataana padega
Tumhein maine ishq sikhaana padega
Chhoti si kharoch se bahaate ho aansu
Tumhen apnaa dil dikhaana padega
Tumhen apnaa dil dikhaana
padega

                                                         – Manav