Teergi chand ke jeene se sahar tak pahunchi (राहत इंदौरी)


Teergi chand ke jeene se sahar tak pahunchi – Rahat Indori | Ghazal Poetry, Teergi chand ke jeene se sahar tak pahunchi lyrics, Quotes image, Rahat Indori image, shayari, two line quotes


Difficult Words:
तीरगी = अंधेरा।
सहर = प्रातःकाल, सवेरा।
जज़्ब = कब्ज़ा करना।

Teergi chand ke jeene se sahar tak pahunchi - Poetry

तीरगी चांद के ज़ीने से सहर तक पहुँची
ज़ुल्फ़ कन्धे से जो सरकी तो कमर तक पहुँची

मैंने पूछा था कि ये हाथ में पत्थर क्यों है
बात जब आगे बढी़ तो मेरे सर तक पहुँची

मैं तो सोया था मगर बारहा तुझ से मिलने
जिस्म से आँख निकल कर तेरे घर तक पहुँची

तुम तो सूरज के पुजारी हो तुम्हे क्या मालुम
रात किस हाल में कट-कट के सहर तक पहुँची

एक शब ऐसी भी गुजरी है खयालों में तेरे
आहटें जज़्ब किये रात सहर तक पहुँची।

                                                 – राहत इंदौरी


Teergi chand ke jeene se sahar tak pahunchi
Zulf kandhe se jo sarki to kamar tak pahunchi

Maine poochha tha ki ye haath me patthar kyo hai
Baat jab aage badi to mere sar tak pahunchi

Maine to soya tha magar baaraha tujh se milne
Jism se aankhe nikal kar tere ghar tak pahunchi

Tum to sooraj ke pujaari ho tumhe kya maalum
Raat kis haal me Kat-Kat ke sahar tak pahunchi

Ek shab aisi bhi gujari hai khyaalon me tere
Aahaten zazb kiye raat sahar tak pahunchi

                                                    – Rahat Indori