Shariq kaifi – Rona Dhona Sirf Dikhaawa Hota Hai.


Shariq kaifi By Rona Dhona Sirf Dikhaawa Hota Hai | Sher, Shariq kaifi, shariq kaifi shayari in hindi, shariq kaifi shayari, shariq kaifi kavita kosh, shariq kaifi youtube, shariq kaifi ghazals, shariq kaifi poetry, shariq kaifi rekhta,


 Rona Dhona Sirf Dikhaawa Hota Hai 

रोना-धोना सिर्फ दिखावा होता है
कौन मेरे जाने से तनहा होता है

उसकी टीस नहीं जाती है सारी उम्र
पहला धोखा पहला धोखा होता है

नाम भी उसका याद नहीं रख पाते हम
गलियों गलियों जिसे पुकारा होता है

सारी बातें याद हमें आ जाती है
लेकिन जब वो उठने वाला होता हैं

बेमतलब की भीड़ लगाने वालों से
जाने वाला और अकेला होता है

घर में इसे महसूस करो या सहरा में
सन्नाटा तो बस सन्नाटा होता है

रोना-धोना सिर्फ दिखावा होता है
कौन मेरे जाने से तनहा होता है

                                                  – शारिक कैफ़ी

Rona Rhona sirf dikhaawa hota hai
Kaun mere jaane se tanha hota hai

Uski tis nahin jaati hai saari uamr,
Pahla dhokha pahla dhokha hota hai

Naam bhi uska yaad nahin rakh paate hum,
Galiyon galiyon jise pukaara hota hai
 
Saari baatein yaad hamein aa jaati hai
Lekin jab vo uthne waala hota hain,

Bematlab ki bhid lagaane waalon se
Jaane waala aur akela hota hain
  
Ghar mein ise mahsus karo yaa sahra mein
Sannaata to bas sannaata hota hai

 Rona-dhona sirf dikhaawa hota hai kaun mere jaane se tanha hota hai.


                                                   – Shariq Kaifi