Puraane Sheharon Ke Manzar Mikalne Lagte Hai – Rahat Indori


Puraane Sheharon Ke Manzar Mikalne Lagte Hai – Rahat Indori | Ghazal Poetry, Rahat Indori Quotes, Rahat Indori image download, Puraane sheharon ke manzar nikalne lagte hai Zameen jahaan bhi khule ghar nikalne lagte hai,


Difficult Words:

सदफ़ = वह सीपी जिसमें से मोतिया निकलती है


  Puraane Sheharon Ke Manzar Mikalne Lagte Hai  

पुराने शहरों के मंज़र निकलने लगते हैं
ज़मीं जहाँ भी खुले घर निकलने लगते हैं



मैं खोलता हूँ सदफ़ मोतियों के चक्कर में
मगर यहाँ भी समन्दर निकलने लगते हैं



हसीन लगते हैं जाड़ों में सुबह के मंज़र
सितारे धूप पहनकर निकलने लगते हैं



बुरे दिनों से बचाना मुझे मेरे मौला
क़रीबी दोस्त भी बचकर निकलने लगते हैं



बुलन्दियों का तसव्वुर भी ख़ूब होता है
कभी कभी तो मेरे पर निकलने लगते हैं



अगर ख़्याल भी आए कि तुझको ख़त लिक्खूँ
तो घोंसलों से कबूतर निकलने लगते हैं



                                                      – राहत इंदौरी




Puraane sheharon ke manzar nikalne lagte hai
Zameen jahaan bhi khule ghar nikalne lagte hai



Main kholta hoon sadaf motiyon ke chakkar me
Magar yahaan bhi samandar nikalne lagte hai



Haseen lagte hai jaadon me subah ke manzar
sitaare dhoop pahan ke nikalne lagte hai



Bulandiyon ka tasavvur bhi khub hota hai
Kabhi-kabhi to mere par nikalne lagte hai



Agar khyaal bhi aaye ki tujhko khat likhoon
To ghosalon se kabootar nikalne lagte hai



                                                   – Rahat Indori