Jo Mera Dost Bhi Hai, Mera Hamnawa Bhi Hai By Rahat Indori | Ghazal, Rahat Indori all Ghazal and Shayari, Rahat Indori all quotes image, Rahat Indori Shayari in Hindi, Rahat Indori poetry, Rahat Indori mushaira video


Difficult Words:
बेनियाज़ – जिसे किसी से कुछ लेने की इच्छा नहीं होती, निःस्पृह ।

Jo Mera Dost Bhi Hai, Mera Hamnawa Bhi Hai


जो मेरा दोस्त भी है, मेरा हमनवा भी है
वो शख्स, सिर्फ भला ही नहीं, बुरा भी है

मैं पूजता हूँ जिसे, उससे बेनियाज़ भी हूँ
मेरी नज़र में वो पत्थर भी है खुदा भी है

सवाल नींद का होता तो कोई बात ना थी
हमारे सामने ख्वाबों का मसअला भी है

जवाब दे ना सका, और बन गया दुश्मन
सवाल था, के तेरे घर में आईना भी है

ज़रूर वो मेरे बारे में राय दे लेकिन
ये पूछ लेना कभी मुझसे वो मिला भी है

                                                        – राहत इन्दौरी


Jo mera dost bhi hai, mera hamnawa bhi hai
Wo shakhs, sirf bhala hi nahi, bura bhi hai

Main pujata hoon jise, usse beniyaaz bhi hoon
Meri nazar main wo patthar bhi hai khuda bhi hai

Swaal neend ka hota to koi baat na thi
Hamare saamne khwaabo ka masala bhi hai

Jawaab de na saka, aur ban gaya dushman
Sawaal tha, ki tere ghar mein aaina bhi hai

Jaroor wo mere baare me raay de lekin
Ye poochh lena kabhi mujhse wo mila bhi hai

                                               – Rahat  Indori