Is Maati Mein Hai Janam Liya | Shivani Thakur | Republic Day Special Poetry


Is Maati Mein Hai Janam Liya | Shivani Thakur | Republic Day Special | The Social House Poetry, Is maati hai janam liya lyrics Shivani thakur the social house image, The social house video. बात आई जो आन पे तेरी  पहन के खाकी युद्ध भी लड़ने जाऊंगा  इस माटी में है जन्म लिया  इस माटी में मिल जाऊंगा


Difficult Words:
हुक्मरान = ( ruler ) शासक।

 Is Maati Mein Hai Janam Liya  

जहां गोली खा कर सीने पे भी
जहां गोली खा कर सीने पे भी
हर जवान हंसता हैं
अरे तुम कहां तक कब्जा कर लोगे
यहां हर दिल में भारत बसता है

इस माटी में है जन्म लिया
इस माटी में मिल जाऊंगा
बात आई जो आन पे तेरी
पहन के खाकी युद्ध भी लड़ने जाऊंगा
इस माटी में है जन्म लिया
इस माटी में मिल जाऊंगा

लहू से सिचूंगा धरती
मैं सरफरोश बन जाऊंगा
देशप्रेम घोल दे सांसो में
मैं गीत वो जोश का गाऊंगा
इस माटी में है जन्म लिया
इस माटी में मिल जाऊंगा 

जहां औरत हो महफूज़ सभी
जहां रोटी की ना हो कोई कमी
मैं ऐसा भारत बनाऊंगा
इस माटी में है जन्म लिया
इस माटी में मिल जाऊंगा

जहां जात-पात ना मसला हो
जहां जात-पात ना मसला हो
जहां उठता बात बात ना असला हो
मैं अमन अब वैसा लाऊंगा
इस माटी में है जन्म लिया
इस माटी में मिल जाऊंगा

धर्म एक जीवन सलीका हो
और भ्रष्ट ना काम का तरीका हो
मैं ऐसा समाज बनाऊंगा
इस माटी में है जन्म लिया
इस माटी में मिल जाऊंगा 

और कह दो इन हूक्मरानों से
चैन से जीने दे हमको
अब कोई और ना फसाद करें
सत्ता की आड़ में देश मेरा ना बर्बाद करे
इसके उज्जवल भविष्य के खातिर
जीवन अपना मौत की राह पे सजाऊंगा
इस माटी में है जन्म लिया
इस माटी में मिल जाऊंगा

मातृभूमि की लाज के खातिर
सर्वश अपना लुटाऊंगा
और गर्व हो मां को कोख पर अपनी
मैं ऐसा बेटा बन जाऊंगा
इस माटी में है जन्म लिया
इस माटी में मिल जाऊंगा

                                             – शिवानी ठाकुर

Jahaan goli kha kar sine pe bhi
Jahaan goli kha kar sine pe bhi
Har jawaan hansta hain
Are tum kahaan tak kabja kar loge
Yahaan har dil mein bharat basta hai

Iss maati mein hai janam liya
Iss maati mein mil jaaunga
Baat aayi jo aan pe teri
Pahan ke khaaki yuddh bhi ladne jaaunga
Iss maati mein hain janam liya
Iss maati mein mil jaaunga

Lahu se sichunga dharti main
Sarfarosh ban jaaunga
Deshprem ghol de saanso mein
Main geet wo josh ka gaaunga
Iss maati mein hain janam liya
Iss maati mein mil jaaunga

Jahaan aurat ho mahphuj sabhi
Jahaan roti ki naa ho koi kami
Main aisa bharat banaunga
Iss maati mein hain janam liya
Iss maati mein mil jaaunga

Jahaan jaat-paat naa maslaa ho
Jahaan jaat-paat naa maslaa ho j
Jahaan uthtaa baat baat naa asla ho
Main aman ab waisa laaunga
Iss maati mein hain janam liya
Iss maati mein mil jaaunga

Dharm ek jeevan salika ho
Aur bhrasht naa kaam kaa tarika ho Main Aisa samaaj banaunga
Iss maati mein hai janam liya
Iss maati mein mil jaaunga

Aur kah do in hukamraanon se
Chain se jine de humko
Ab koi aur naa phasaad karein
Satta ki aad mein desh mera na barbaad kare
Iske ujjawal bhawishay ke khatir
Jeevan apna maut ki raah pe sajaunga
Iss maati mein hain janam liya
Iss maati mein mil jaaunga

Maatarbhumi ki laaj ke khatir
Sarvash apnaa lutaaunga
Aur garv ho maa ko kokh par apni
Main aisa beta ban jaaunga
Iss maati mein hain janam liya
Iss maati mein mil jaaunga

Shivani Thakur