Dhoop Bahut Hai Mausam Jal-Thal Bhejo Na – Rahat Indori


Dhoop Bahut Hai Mausam Jal-Thal Bhejo Na – Rahat Indori | Ghazal Poetry, Shayari, Rahat Indori mushaira, quotes, Rahat Indori quotes, Rahat Indori all Ghazal, धूप बहुत है मौसम जल-थल भेजो ना  बाबा मेरे नाम का बादल भेजो ना राहत इंदौरी,


Difficult Words:
मौलसिरी = एक प्रकार का बड़ा सदा बहार पेड़ जिसकी लकड़ी अन्दर से लाल और चिकनी होती है
संदल = सन्देश

  Dhoop Bahut Hai Mausam Jal-Thal Bhejo Na 

धूप बहुत है मौसम जल-थल भेजो ना
बाबा मेरे नाम का बादल भेजो ना

मौलसिरी की शाख़ों पर भी दिये जलें
शाख़ों का केसरया आँचल भेजो ना

नन्ही मुन्नी सब चेहकारें कहाँ गईं
मोरों के पैरों की पायल भेजो ना

बस्ती बस्ती दहशत किसने बो दी है
गलियों बाज़ारों की हलचल भेजो ना

सारे मौसम एक उमस के आदी हैं
छाँव की ख़ुश्बू, धूप का संदल भेजो ना

मैं बस्ती में आख़िर किस से बात करूँ
मेरे जैसा कोई पागल भेजो ना

                                                 – राहत इंदौरी


Dhoop bahut hai mausam Jal-Thal bhejo na
Baba mere naam ka baadal bhejo na

Molsari ki shaakho par bhi diye jale
Shaakho ka kesarya aanchal bhejo na

Nanhi Munni chehakaare kahan gayi
Moron  ke pairon ki paayal bhejo na

Saare mausam ek umas ke aadi hai
Chhanv ki khusboo, dhoop ka sandal bhejo na

Main basti me aakhir kis se baat karoon
Mere jaisa koi paagal bhejo na

                                                   – Rahat Indori