Baithe Baithe Muskurane Lage By Arman Ahmad

Baithe Baithe Muskurane Lage | Arman Ahmad | The Social House Poetry, The social house poetry in Hindi,  Baithe Baithe Muskurane Lage lyrics, Baithe Baithe Muskurane Lage Arman Ahmad poetry, The social house video, The social house image, love Quotes, love Shayari, Love ghazal, love poetry, Baithe baithe hi hum muskurane lage Teri surat chaand se milaane lage


 Baithe Baithe Muskurane Lage 

एक वसीम बरेलवी साहब का एक शेर है  
"तूफान आते हैं आने दो 
मेरा क्या ले जाएंगे 
तूफान आते हैं आने दो 
मेरा क्या ले जाएंगे 
मैं तो जब डरता, की मेरा हौसला ले जायेंगे।" 

बैठे बैठे ही हम मुस्कुराने लगे 
तेरी सूरत चांद से मिलाने लगे 
जल्दी आना मेरे पास, तुम लौट के सनम 
जल्दी आना मेरे पास तुम लौट के सनम 
इससे पहले की तेरी याद आने लगे

उफ़ ये निगाहें और किसको घायल करेंगी 
तेरी अदाएं और किसको यूं कायल करेंगी  
बिना देखे ही तुझे पहचान लूंगा मैं 
तेरी मौजूदगी का एहसास तेरी पायल करेगी 

मुद्दत लगती है पाने में, चदं लम्हात नहीं
मोहब्बत करना तुम्हारे बस की बात नहीं मोहब्बत करना तुम्हारे बस की बात नहीं 
तुम तो चाहते हो आसानी से मिल जाए मोहब्बत पर वो मोहब्बत ही क्या जिसमे आए मुश्किलात  नहीं 
हमारी मोहब्बत की उसको हवा ना लगी 
बहुत मांगी खुदा से, मगर दुआ ना लगी 
अब बैठे हैं लेके सीने में जख्म-ए-वफ़ा 
जरा सांस बदल दिए, लेकिन दवा ना लगी

तेरे ख्वाब आंखों में संभालू कैसे 
अपने दिल से मैं तुझको निकालूं कैसे 
तूने तो दी है सनम चोट दिल पर मेरे 
अब तू ही बता मैं दर्द को छुपा लूं कैसे 

एक हसीन चेहरा जो ख्वाब में आ रहा है 
गौर से देखिए चांद नकाब में आ रहा है 
और सब पूछते हैं खोए किसके खयालों में रहते हो तुम,
दिल पर हाथ रख लूं, 
नाम उसका जवाब में आ रहा है 
उनकी मोहब्बत से यूं मजबूर होते गए 
दिल भरता गया उनका और वो दूर होते गए 
ऊंचा मकां दिया था उन्हें दिल में 
अपने 
मोहब्बत ही ना समझे और मगरूर होते गए 
बेवफाई के लगा के इल्जाम सारे 
गुनहगार करके हमें खुद बेकसूर होते गए
पूरे पूरे उसकी निगाहों में थे हम  
होश कैसे आता है उसकी बाहों में थे हम 
पर्दा पड़ा था इन आंखों पर मेरी 
पर्दा पड़ा था इन आंखों पर मेरी 
बहुत दिनों से बेवफा की वफाओं में थे हम

उसके जाने का अब इतना गम नहीं होता 
मगर कमबख्त दर्द खत्म नहीं होता 
और यूं तो उसने आना बंद कर दिया लेकिन 
बस उसकी यादों का आना कम नहीं होता 
सामने से आना और बेरुखी से नजरें फेर लेना 
इस कदर भी तो जालिम सितम नहीं होता 
ये चांद पे जुल्फों की काली घटा 
कयामत ढाहती है तुम्हें क्या पता 
हम तो हारे हैं तुम्हें सुना के हाल-ए-दिल
अब बारी तेरी है तू भी तो इश्क जता 

देखने के लिए इन आंखों को नजारे बहुत हैं  
दिल में जो राज हैं गहरे बहुत हैं 
मेरी कश्ती समंदर में रही नहीं सकती 
इसे किनारे लगाने वाली लहरें बहुत हैं 

तेरा साथ हमें मुकम्मल कर जाएगा 
एक पुराना जख्म है जो भर जाएगा 
तुम ही ना देखो अगर मेरे दिल की हालत 
दीवाना यहां ना आए, तो कहां जाएगा 
कितना दर्द दिया है ज़माने ने मुझे 
कोई मेरे जितना सह ले तो मर जाएगा 

कुछ जखम दिल में यूं पल जाते है
वो हमें देखते हैं और आगे निकल जाते हैं 
उसके मेरे दरमियां कुछ है नहीं अभी 
उसके मेरे दरमियां कुछ है नहीं अभी 
लोग उसे देखते हैं, मुझसे जल जाते हैं 

इश्क की राह में उन्हें सम्भलना नहीं आता 
इश्क की राह में उन्हें सम्भलना नहीं आता 
या तो मोहब्बत नहीं आती है 
या चलना नहीं आता। 

                                        – अरमान अहमद




Ek wasim barelvi sahab ka ek sher hai  
"Tufaan aate hain aane do 
Mera kya le jayenge 
Tufaan aate hain aane do 
Mera kya le jayenge 
Main to jab darta, ki mera hausla le jayenge."

Baithe baithe hi hum muskurane lage
Teri surat chaand se milaane lage
Jaldi aana mere paas, tum laut ke sanam 
Jaldi aana mere paas tum laut ke sanam 
Isse pahle ki teri yaad aane lage 

Ufff ye nigaahein aur kisko ghayal karegi 
Teri adayein aur kisko yun kaayal karengi  
Bina dekhe hi tujhe pahchaan lunga main 
Teri maujudagi ka ehsaas teri paayal karegi 

Muddat lagti hai paane mein, 
Chand lamhaat nahin 
Mohabbat karna tumhare bas ki baat nahin 
Mohabbat karna tumhaare bas ki baat nahin 
Tum to chaahte ho aasani se mil jaye mohabbat 
Par wo mohabbat hi kya jisme aaye mushkilaat nahin 
Humari mohabbat ki usko hawa naa lagi 
Bahut maangi khuda se, magar dua naa lagi 
Ab baithe hain leke sine mein jakhm-aye-wafa 
Zara saans badal diya, lekin dawa naa lagi 

Tere khwaab aankhon mein sambhalu kaise 
Apne dil se main tujhko nikaalun kaise 
Tune to di hai sanam chot dil par mere 
Ab tu hi bata main dard ko chhupa
lun kaise 

ek hasin chehra jo khwaab mein aa raha hai 
Gaur se dekhiye chaand nakaab mein aa raha hai 
Aur sab puchhte hain khoye kiske khayaalon mein rahte ho tum, 
Dil par haath rakh lun, naam uska jawaab mein aa raha hai   

Unki mohabbat se yun majbur hote gaye 
Dil bharta gaya unka aur wo dur hote gaye 
Uncha makaam diya tha unhein dil mein apne 
Mohabbat hi naa samjhe aur magrur hote gaye 
Bewafai ke laga ke ilzaam saare
Gunahgaar karke hamein khud beksur hote gaye   

Pure pure uski nigaahon mein the hum  
Hosh kaise aata hai uski baahon mein the hum 
Parda pada tha in aankhon par meri
Parda pada tha in aankhon par meri
Bahut dinon se bewafa ki wafaon mein the hum 

Uske jaane ka ab itna ghum nahin hota 
Magar kamabakht dard khatam nahin hota 
Aur yun to usne aana band kar diya
Lekin bas uski yaadon ka aana kam nahin hota 
Saamne se aana aur berukhi se nazarein fer lena is kadar bhi to zaalim sitam nahin hota   

Ye chaand pe julfon ki kaali ghata
Kayaamat dhaahti hai tumhein kya pata 
Hum to haare hain tumhein suna ke haal-aye-dil 
Ab baari teri hai tu bhi to ishq jata

Dekhne ke liye in aankhon ko najaare bahut hain  
Dil mein jo raj hain gahre bahut hain
Meri kashti samandar mein rahi nahin sakti 
Ise kinare lagane waali lahrein bahut hain 

Tera saath hamein mukammal kar jayega 
Ek purana jakham hai jo bhar jayega
Tum hi naa dekho agar mere dil ki haalat 
Deewana yahan na aaya, to kahaan jayega 
Kitna dard diya hai zamane ne mujhe
Koi mere jitna sah le to mar jayega
Kuch jakham dil mein yun pal jaate hai 
Wo hamein dekhte hain aur aage nikal jaate hain 
Uske, mere daramiyaan kuch hai nahin abhi 
Uske, mere daramiyaan kuch hai nahin abhi 
log use dekhte hain, mujhse jal jaate hain 

Ishq ki raah mein unhein sambhalna nahin aata 
Ishq ki raah mein unhein sambhalna nahin aata 
Yaa to mohabbat nahin aati hai 
Yaa chalna nahin aata.

                                                  – Arman Ahmad