Aashiq Ka Attitude – Gurpreet Singh Bansal

Aashiq Ka Attitude by Gurpreet Singh Bansal | The Social House Poetry, Love poetry, Shayari, Love Shayari, Heartouching Poetry, The social house poetry videos, Gurpreet Singh bansal all poetry, Aur macha diya katle-aam hai Ki tera wo aashiq mera gulaam hai




  Aashiq Ka Attitude Portry  

कह रही थी मुझसे उसकी सखी
वो खुद को कहती है अन-लकी
हो गई वो हक्की बक्की,
जानू देखकर तेरी तरक्की

दिल में दर्द जुबां पर इल्जाम है
तेरे दिए जख्मों से पाया ये मुकाम है
कि मेरे चेहरे पर रुतबा और हाथों में जाम है
कि तेरा वो आशिक मेरा गुलाम है
तेरा वो आशिक मेरा गुलाम है

तू इश्क मेरा परखने वाला
जानू-जान तली पर रखने वाला
सारा अमृत तुझको देकर,
जहर-निवाला चखने वाला
तेरे गुनाहों को ढकने वाला
जो तू कहे वह बकने वाला
आज खड़ा सरेआम है
पर तेरा वो आशिक मेरा गुलाम है

आशिकी छिछोरे करें इश्क कोई रेयर करता है
तेरी खामियों के साथ अपनाया है तुझे
ऐसा कौन डियर करता है
वो जो आजकल तेरी केयर करता है
जानू का वीडियो शेयर करता है 
घूमते फिरते मुझे करता सलाम है
कि तेरा वो आशिक मेरा गुलाम है

हर गंदे ख्याल को दिमाग से दफा करता था
तेरी बेवफाई से भी वफा करता था
जाना कब मैं तुझे खफा करता था
पर देख आज मचा रखा हमने कत्लेआम है
कि तेरा वो आशिक मेरा गुलाम है

तेरे लबों को छूकर गुजरा वो लम्हा लौट के आया ना
मैंने मर जाना था तेरे बिना तुझे किसी ने बताया ना
तेरे होंठ, तेरी आंखें इन सब में मैं समाया ना
मुझे छोड़कर जाते वक्त तुझे किसी ने समझाया ना

मैंने चाहा तुझे पूरे दिल से
आज लौट आया भरी महफिल से
कह के आ गया कि तू लायक नहीं थी
नहीं लगाना दिल किसी बुजदिल से

बेवफा बोलता है जानू से बुरा नहीं बोलता
सब कुछ खो दिया फिर भी खुद को अधूरा नहीं बोलता
बड़े गुरुर से निकलता हूं उसकी गली से मैं,
मेरे आगे तेरा कोई जमूरा नहीं बोलता
और मचा रखा कत्लेआम है
कि तेरा वो आशिक मेरा गुलाम है

हर घड़ी हर पल हर वक्त एक ही बात मुझे सताती है
जो बिछड़ने के बाद मुझसे लड़ा करती थी
एक ही झटके में मुझे भूल जाती है
जो गाने उसको मैंने सुनाये थे किसी और को सुनाती है
जिस नाम से मैंने बुलाया था किसी और को बुलाती है

प्रेमी जोड़ों में हमेशा संवाद नहीं रहता
आशिक हमेशा तो आजाद नहीं रहता
दर्द-तकलीफ जकड़ लेते हैं उसको
जैसे तेरे साथ था तेरे बाद नहीं रहता
पर याद रखियो जो मारता है सबको जिंदा, वो जल्लाद नहीं रहता
अकड़ में आ जाए आशिक एक बार,
तो कोई महबूब याद नहीं रहता
दिल हमेशा दुखी रहता है नासाद नहीं रहता
सच्चा आशिक सारी उम्र बर्बाद नहीं रहता
सच्चा आशिक सारी उम्र बर्बाद नहीं रहता

बेधड़क बेझिझक लिख रहा हूं मैं
महफिल में अकेला खड़ा दिख रहा हूं मैं
तेरी बचकानी बातों से छिक रहा हूं मैं
तलवार की नोंक से लिख रहा हूं मैं

जाने दो उसको वो रहे किसी के साथ भी
जानू कर रहा तरक्की उसके जाने के बाद भी
भाड़ में जाए तू और भाड़ में जाए समाज भी
गलती कर दी छोड़ कर वो सोचती होगी आज भी
मारा मुश्किलों को इतना, यार बन गया यमराज भी
और मचा दिया कत्लेआम है
कि तेरा वो आशिक मेरा गुलाम है

जब तू बीमार थी तुझे हाथों से दवाई खिलाई थी
बड़ा समझाया तुझे जब तू घर से लड़कर आई थी
फिर पलट गई बाप के सामने कहने लगी मेरी इज्जत भी आई थी ?
मेरा भी तो परिवार खड़ा था तुझे क्यों याद नहीं आई थी ?
कि धज्जियां उड़ा दी कमाई की, मेरी मोहब्बत ना दिखाई दी
सूनी तेरी कलाई थी सोने की चूड़ी मैंने चढ़ाई थी
तुझे अंग्रेजी भी दिखाई थी
तेरी नौकरी भी लगाई थी

बरसों कराया रिचार्ज तेरा
अब तो अपना पैसा खर्च कर
देखनी है मेरी तरक्की, नाम यूट्यूब पर सर्च कर
लड़का बन गया खास वो किठ्ठू आज भी आम है
कि तेरा वो आशिक मेरा गुलाम है
तेरा वो आशिक मेरा गुलाम है
मेरी मोहब्बत मेरा इंतकाम है
करना इस क्लेश का काम तमाम है
तो हर आशिक को मेरा एक सलाम है
बेटा जोर से कहो मुंह तोड़ कर कहो मुछे मोड़ के कहो
कि तेरा वो आशिक मेरा गुलाम है

                                               – गुरप्रीत सिंह बंसल


Kah rahi thi mujhse uski sakhi
Wo khud ko kahti hai Un-lucky
Ho gayi wo hakki-bakki,
Jaanu dekhkar teri tarkki

Dil mein dard jubaan par ilzaam hai
Tere diye jakhmon se paaya ye mukaam hai
Ki mere chehre par rutba aur haathon mein jaam hai
Ki tera wo aashiq mera gulaam hai
Tera wo aashiq mera gulaam hai

Tu ishq mera parakhne wala
Jaanu-jaan tali par rakhne wala
Saara amrit tujhko dekar, jahar-nivaala chakhne wala
Tere gunaahon ko dhakne wala
Jo tu kahe wo bakne wala
Aaj khada sare-aam hai,
Par tera wo aashiq mera gulaam hai

Aashiqi chhichhore karein ishq koi rair karta hai
Teri khaamiyon ke saath apnaya hai tujhe
Aisa kaun dear karta hai
Wo jo aaj-kal teri care karta hai
Jaanu ka video share karta hai
Ghumte firte mujhe karta salaam hai
Ki tera wo aashiq mera gulaam hai

Har gande khyaal ko dimaag se dafa karta tha
Teri bewafaai se bhi wafa karta tha
Jaana kab main tujhe khafa karta tha
Par dekh aaj macha rakha hamne katle-aam hai
Ki tera wo aashiq mera gulaam hai

Tere labon ko chhukar gujra wo lamha laut ke aaya na
Maine mar jaana tha tere bina, tujhe kisi ne bataaya na
Tere honth, teri aankhen in sab mein main samaaya na
Mujhe chhod kar jaate waqt tujhe kisi ne samjhaaya na

Maine chaaha tujhe pure dil se
Aaj laut aaya bhari mehfil se
kah ke aa gaya ki tu laayak nahin thi
Nahin lagaana dil kisi bujdil se
Bewafa bolta hai jaanu se bura nahin bolta
Sab kuch kho diya phir bhi khud ko adhura nahin bolta
Bade gurur se nikalta hun uski gali se main,
Mere aage tera koi jamura nahin bolta
Aur macha rakha katle-aam hai
Ki tera wo aashiq mera gulaam hai

Har ghadi har pal har waqt ek hi baat mujhe sataati hai
Jo bichhadne ke baad mujhse lada karti thi
Ek hi jhatke mein mujhe bhul jaati hai
Jo gaane usko maine sunaaye the kisi aur ko sunaati hai
Jis naam se maine bulaaya tha kisi aur ko bulaati hai

Premi jodon mein hamesha sanvaad nahin rahta
Aashik hamesha to ajaad nahin rahta
Dard-taklif jakad lete hain usko
Jaise tere saath tha tere baad nahin rahta
Par yaad rakhiyo jo maarta hai sabko zinda, vo jallaad nahin rahta
Akad mein aa jaye aashiq ek baar,
To koi mehboob yaad nahin rahta
Dil hamesha dukhi rahta hai naasad nahin rahta
Saccha aashiq saari umar barbaad nahin rahta
saccha aashiq saari umar barbaad nahin rahta

be-dhadak be-jhijhak likh raha hun main
mehfil mein akela khada dikh raha hun main
Teri bachkaani baaton se chhik raha hun main
Talvaar ki nonk se likh raha hun main

Jaane do usko wo rahe kisi ke saath bhi
Jaanu kar raha tarkki uske jaane ke baad bhi
Bhaad mein jaye tu aur bhaad mein jaye samaaj bhi
Galti kar di chhod kar wo sochti hogi aaj bhi
Maara mushkilon ko itna, yaar ban gaya yamraaj bhi
Aur macha diya katle-aam hai
Ki tera wo aashiq mera gulaam hai

Jab tu bimaar thi tujhe haathon se dawaai khilaai thi
Bada samjhaaya tujhe jab tu ghar se ladkar aayi thi
Phir palat gayi baap ke saamne kahne lagi meri izzat bhi aayi thi ?
Mera bhi to parivaar khada tha tujhe kyon yaad nahin aayi thi ?
Ki dhajjiyaan uda di kamaayi ki,
Meri mohabbat na dikhaai di
Suni teri kalaai thi sone ki chudi maine chadhaai thi
Tujhe angrezi bhi dikhaai thi
Teri naukari bhi lagaai thi

Barson karaya recharge tera,
Ab to apna paisa kharch kar
Dekhni hai meri tarkki,
Naam YouTub par sarch kar
Ladka ban gaya khaas wo kiththu aaj bhi aam hai
Ki tera wo aashiq mera gulaam hai Tera wo aashiq mera gulaam hai

Meri mohabbat mera intekaam hai
Karna is kalesh ka kaam tamaam hai To har aashik ko mera ek salaam hai
Beta jor se kaho munh tod kar kaho muchhe mod ke kaho
Ki tera wo aashiq mera gulaam hai

                                    – Gurpreet Singh Bansal