Teri Yaari, Mera Guroor – By Helly Shah | Slam Poetry


Teri Yaari, Mera Guroor – By Helly Shah | Slam Poetry, The Social house Poetry, TSH Poetry, Shayari, Love Quotes, Quotes for friends, poetry on friend , Dosti Poem, Dosti poetry in Hindi Dosti poem in Hindi, Two line quotes, Dhup mein baarish ho jaise,  Kuch aisi apni yaari hai  Kuch aisi apni yaari hai..., all helly shah poem , Helly shah all poetry, Helly shah ki kahaniya , helly shah image download


Poem Credit:

Poetry TitleTeri Yaari, Mera Guroor
Written By Helly Shah
Source By Stage Time

Teri Yaari, Mera Guroor Poetry


Karodon ki iss bhid mein, 
Khoje kyon daaman pyaar ka, 
Nakab benakab saare, 
Bas ek chehra yaar ka 
Magroor hai ye aashiqi 
Sukun sirf dosti mein hai 
Duniya ke gham sab dhal se jaate hain 
bas teri ek hansi mein hai 
Jo ho udaasi ka aalam kabhi, Muskuraane ka paigaam tu 
Thaka haara lautun duniyaa se 
To manchaha aaram tu 
Dharm dhan se upar aakar 
Yaaraane ki beshumaari hai 
Dilon men jo aa base, 
Kuch aisi apni yaari hai 
Kuch aisi apni yaari hai....   

Bachapan ki sharaarton ne 
Kaan pakade baar baar 
Har shaam phir bhi gend(ball) lekar Tha khada tu dar pe yaar 
Naa mili mujhe uski mohabbat 
Naa hua main waqt ka rojgaar 
Phir bhi har shaam usi tapri par, 
Tha khada tu haath mein 
Chaay aur biskoot chaar
Khaam khaa to aaj bhi duniyaa deti hai jakham 
Par yaar jiska saath mein 
Vo naa maange koi maraham 
Thodi mithi kaafi khatti 
Bas thodi si aavaari hai 
Dhup mein baarish ho jaise, 
Kuch aisi apni yaari hai 
Kuch aisi apni yaari hai... 

Apni yaadon ke kaafilo mein 
Kaid saari khushiyaan, 
Shahar chhuta log chhute 
Naa chhodu main ye yaariyaan 
Jab khoya maine khud ko bhi 
Tanhaai ka aalam sa chhaaya 
saath liye behad yakin 
Milo chal, bas tu hi aaya 
Tere kaandhe pe sar rakh kar 
Roya hun main sau dafa
Sikha tujhse hi to maine 
Jindagi ka phalsafa 
Mushkilen sau aa bhi jayein 
Hauslo se savaari hai 
Khuda bhi puchhe, raaj kya ? 
kuchh aisi apni yaari hai 
Iss kahaani ki aawaaj main, 
Par ruh to tumhaari hai 
Khuda bhi puchhe, raaj kya ? 
Kuch aisi apni yaari hai 
Kuch aisi apni yaari hai.... 
Dhanyvaad !


करोड़ों की इस भीड़ में, 
खोजे क्यों दामन प्यार का, 
नकाब बेनकाब सारे, 
बस एक चेहरा यार का 
मगरूर है ये आशिकी 
सुकून सिर्फ दोस्ती में है 
दुनिया के गम, सब ढल से जाते हैं 
बस तेरी एक हंसी में है 
जो हो उदासी का आलम कभी, 
मुस्कुराने का पैगाम तू 
थका हारा लौटुं दुनिया से 
तो मनचाहा आराम तू 
धर्म धन से ऊपर आकर 
याराने की बेशुमारी है 
दिलों में जो आ बसे 
कुछ ऐसी अपनी यारी है
कुछ ऐसी अपनी यारी है।....
बचपन की शरारतों ने कान पकड़े बार बार 
हर शाम फिर भी गेंद लेकर 
था खड़ा तू दर पे यार 
ना मिली मुझे उसकी मोहब्बत 
ना हुआ मैं वक्त का रोजगार 
फिर भी हर शाम उसी टपरी पर 
था खड़ा तू हाथ में चाय और बिस्कुट चार 
खाम खा तो आज भी दुनिया देती है जख्म
पर यार जिसका साथ में 
वो ना मांगे कोई मरहम 
थोड़ी मीठी काफी खट्टी 
बस थोड़ी सी आवारी है 
धूप में बारिश हो जैसे 
कुछ ऐसी अपनी यारी है
कुछ ऐसी अपनी यारी है।...

अपनी यादों के काफिलो में 
कैद सारी खुशियां 
शहर छूटा लोग छूटे 
ना छोड़ू मैं ये यारियां 
जब खोया मैंने खुद को भी 
तन्हाई का आलम सा छाया 
साथ लिए बेहद यकीं 
मीलो चल, बस तू ही आया 
तेरे कांधे पे सर रख कर 
रोया हूं मैं सो दफा 
सीखा तुझसे ही तो मैंने 
जिंदगी का फलसफा
मुश्किलें सौ आ भी जाए
हौसलो से सवारी है 
खुदा भी पूछे, राज क्या ?
कुछ ऐसी अपनी यारी है
इस कहानी की आवाज मैं, 
पर रुह तो तुम्हारी है
खुदा भी पूछे, राज क्या ?
कुछ ऐसी अपनी यारी है
कुछ ऐसी अपनी यारी है।....
धन्यवाद !


                                       –Helly Shah