Aise Chup Hain Ki Ye Manzil Bhi – Ahmad Faraz | Urdu Poetry ,Ahmed Faraz ki ghazale, Ahmed Faraz all Urdu Ghazal, Ahmed Faraz Urdu nazm in Hindi, Ahmed faraz Urdu poetry, Ahmed Faraz song lyrics, sad poetry, Broken heart poetry, Two line Ahmed Faraz, Two line quotes, broken heart quotes, sad quotes, Quotes in Hindi, Urdu quotes in image, ऐसे चुप हैं कि ये मंज़िल भी कड़ी हो जैसे  तेरा मिलना भी जुदाई की घड़ी हो जैसे  अपने ही साए से हर गाम लरज़ जाता हूँ रास्ते में कोई दिवार खड़ी हो जैसे, Ahmed Faraz Pakistani poet.


Credit:

Poetry Title – Aise Chup Hain Ki Ye Manzil Bhi
Written By – Ahmad Faraz

Difficult Words:
गिरह – गाँठ
गाम – कदम
लरज़ – डगमगाना



Aise Chup Hain Ki Ye Manzil Bhi - Poetry

ऐसे चुप हैं कि ये मंज़िल भी कड़ी हो जैसे
तेरा मिलना भी जुदाई की घड़ी हो जैसे

अपने ही साए से हर गाम लरज़ जाता हूँ
रास्ते में कोई दिवार खड़ी हो जैसे

कितने नादाँन हैं तेरे भूलने वाले
कि तुझे याद करने के लिए उम्र पड़ी हो जैसे

तेरे माथे की शिकन पहले भी देखी थी
मगर ये गिरह अब के मेरे दिल में पड़ी हो जैसे

मंज़िलें दूर भी हैं मंज़िलें नज़दीक भी हैं
अपने ही पांव में ज़ंजीर पड़ी हो जैसे

आज दिल खोल के रोए हैं तो यूँ खुश हैं ‘फ़राज़’
 चंद लम्हों की ये राहत भी बड़ी हो जैसे।


                                                    – अहमद फ़राज़

Aise chup hain ki ye manzil bhi kadi ho jaise
Tera milna bhi judaai ki ghadi ho jaise

Apne hi saaye se har gaam larj jaata hun
Raaste mein koi divaar khadi ho jaise

kitne nadaan hain tere bhulne waale
Ki tujhe yaad karne ke liye umar padi ho jaise

Tere maathe ki shikan pahle bhi dekhi thi magar
Ye girah ab ke mere dil mein padi ho jaise

Manzilen dur bhi hain manzilen nazdik bhi hain
Apne hi paanv mein zanjir padi ho jaise

Aaj dil khol ke roye hain to yun khush hain ‘Faraz’
Chand lamhon ki ye rahat bhi badi ho jaise


                                                – Ahmed Faraz